पश्चिमोत्तानासन

पश्चिमोत्तानासन – कैसे करे ? इसकी विधि, लाभ और सावधानियां |

पश्चिमोत्तानासन पश्चिमोत्तानासन दो शब्दों से मिलकर बना है - पश्चिम + उत्तान | यहाँ पश्चिम से तात्पर्य है पीछे की और उत्तान का अर्...

Continue reading

मुर्गासन

मुर्गासन / मुर्गा-आसनात्मक क्रिया – विधि , लाभ और सावधानियां |

पहले स्कुलों में विद्यार्थियों को मुर्गा बनाया जाता था और आज भी यह क्रिया बहुत सी स्कुलों मे विद्यार्थियों को दण्ड देने के लिए अपनाई जा...

Continue reading

धनुरासन

धनुरासन – करने की विधि, लाभ और सावधानियां

धनुरासन धनुरासन का अर्थ होता है धनुष के समान। धनुर और आसन शब्दों के मिलने से धनुरासन बनता है। यहां धनुर का अर्थ है धनुष। इस आसन में साध...

Continue reading

उतानपादासन

उतानपादासन – विधि, फायदे और सावधानियां

योग चिकित्सा में बहुत से आसन है जो स्वास्थ्य की दृष्टि से अतिमहत्वपूर्ण है और जिन्हे हर प्रकार के लोग कर सकते हैं एवं सावधानियां भी कम ...

Continue reading

भुजंगासन

भुजंगासन – विधि , सावधानियां और फायदे

भुजंगासन भुजंगासन दो शब्दों से मिलकर बना है - भुजंग + आसन । भुजंग का अर्थ होता है नाग या सर्प। इस आसन की आकृति फन उठाये सांप की तरह होत...

Continue reading

गोमुखासन

गोमुखासन – गोमुखासन करने की विधि , प्रकार और फायदे

गोमुखासन  गोमुखासन का अर्थ है गाय के मुख के समान आकृति वाला आसन। इस आसन में गाय के मुहं के समान एक सिरे पर पतला और दूसरे सिरे पर चैड़ा ...

Continue reading

सर्वांगासन

सर्वांगासन – विधि, फायदे और सावधानियां

सर्वांगासन परिभाषा- सर्वांगासन शब्द का संधि विच्छेद करने पर यह सर्व+अंग+आसन से मिलकर बना है। सर्व का अर्थ होता है सभी या पूरा और अंग का...

Continue reading

अष्टांग योग

अष्टांग योग – क्या है , इसके अंग और फायदे

अष्टांग योग / Ashtanga YOGA  योगसूत्र के जनक पतंजली ने अष्टांग योग की परिकल्पना हमारे सामने प्रस्तुत की है। इन्होने योग के सभी अंग...

Continue reading

मकरासन

मकरासन -विधि, लाभ , कमर दर्द एवं सर्वाइकल से मुक्ति

परिभाषा - मकर नाम मगरमच्छ का ही एक प्रयाय है। मकरासन में जलज प्राणी मगरमच्छ की तरह ही आकृति बनानी पड़ती है। तभी इसे मकरासन नाम दिया ...

Continue reading

हस्त मुद्रा से लाभ

हाथ की मुर्द्राओं से भगाएं रोग – हस्त मुद्रा से उपचार

हस्त मुद्रा से उपचार  हमारा भौतिक शरीर 5 महाभूतों से बना है - पृथ्वी , अग्नि , जल , वायु और आकाश | हमारे दोनों हाथों की अंगुलियाँ और अ...

Continue reading