vaat rog Archives - स्वदेशी उपचार

Category: vaat rog

गोक्षुरादी गुग्गुलु 0

गोक्षुरादि गुग्गुलु / Gokshuradi guggulu – के स्वास्थ्य उपयोग एवं घटक द्रव्य

गोक्षुरादि गुग्गुलु / Gokshuradi Guggulu In Hindi  आयुर्वेद की गुग्गुलु कल्पना के तहत बनाये जाने वाली आयुर्वेदिक दवा है | गोक्षुरादि गुग्गुलु में गोक्षुर (गोखरू) एवं गुग्गुलु प्रधान औषध द्रव्य होते है | गोक्षुर...

सिंहनाद गुग्गुलु 0

सिंहनाद गुग्गुलु – जाने इसके फायदे, निर्माण विधि एवं घटक द्रव्य

सिंहनाद गुग्गुलु (Singhnad Guggulu) – आयुर्वेद की यह दवा वातदोषों के उपचारार्थ उपयोग में ली जाती है | इसका प्रयोग आमवात , वातरक्त, रुमाटाइड पेन एवं संधिशूल में किया जाता है | शरीर में...

वायविडंग 0

वायविडंग परिचय – औषधीय गुण धर्म , फायदे एवं स्वास्थ्य उपयोग

वायविडंग (vaividang) / Embelia Ribes Hindi  वायविडंग क्या है :- वायविडंग एक आयुर्वेदिक औषधीय द्रव्य है | भारत में अधिकतर हिमालय के प्रदेशों, दक्षिणी भारत के पर्वर्तीय परदेशो एवं इसके साथ – साथ नेपाल...

लवण भास्कर चूर्ण 0

लवण भास्कर चूर्ण बनाने की विधि – इसके स्वास्थ्य लाभ एवं फायदे

लवण भास्कर चूर्ण / Lavan Bhaskar Churna in Hindi आयुर्वेद में रोगों के इलाज के लिए सबसे अधिक चूर्ण का इस्तेमाल किया जाता है | लवण भास्कर चूर्ण भी आयुर्वेद का प्रसिद्ध चूर्ण है...

पार्किसंस रोग इन हिंदी 0

पार्किंसंस रोग / Parkinson’s Disease – इसके कारण, लक्षण और इलाज |

पार्किंसंस रोग रोग / Parkinson’s Disease in Hindi परिचय – पार्किंसंस रोग को हिंदी में कम्पाघात कहते है | यह एक मानसिक विकार है जो केन्द्रीय तंत्रिका तंत्र से जुड़ा हुआ रोग है | चिकित्सा...

सूर्यभेदी प्राणायाम 0

सूर्यभेदी प्राणायाम – इसकी विधि , लाभ एवं सावधानियां |

सूर्यभेदी / सूर्यभेदन  प्राणायाम सुर्यभेदी प्राणायाम की विशेषता होती है की इसमें पूरक क्रिया नाक के दांये छिद्र से की जाती है | नाक के दांये छिद्र को सूर्य स्वर और बांये को चन्द्र...

हिचकी रोकने के उपाय 0

हिचकी / Hiccough – हिचकी रोकने के उपाय, कारण व आयुर्वेदिक दवा

हिचकी (हिक्का) रोग / Hiccough – रोकने के उपाय हिक इति कृत्वा कायति शब्दायते इति हिक्का | अर्थात शरीर के द्वारा ( उदान , प्राणवायु, यकृत , प्लीहा और आंतो के द्वारा ) “हिक्क”...

नस्य कर्म और इसके फायदे 0

नस्य कर्म – क्या होता है ? इसकी विधि और फायदे

नस्य कर्म / Nasya Karma ”नासायं भवं नस्यम्“  अर्थात औषधी या औषध सिद्ध स्नेहों को नासामार्ग से दिया जाना नस्य कहलाता है। नस्य का दूसरा अर्थ नासिका के लिए जो हितकर होता है वह...

लहसुन के फायदे 0

लहसुन खाने के 30+ फायदे – अपनाये ये घरेलु नुस्खे

लहसुन के फायदे और इसके घरेलु नुस्खे  भारतीय व्यंजनों में लहसुन का इस्तेमाल चटपटी चीजों का स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है | लेकिन जितना उपयोग लहसुन का खाने का स्वाद बढाने का...

मुर्गासन 0

मुर्गासन / मुर्गा-आसनात्मक क्रिया – विधि , लाभ और सावधानियां |

पहले स्कुलों में विद्यार्थियों को मुर्गा बनाया जाता था और आज भी यह क्रिया बहुत सी स्कुलों मे विद्यार्थियों को दण्ड देने के लिए अपनाई जाती है। जी हाँ यह वही मुर्गा बनने का...