श्वेत प्रदर (सफ़ेद पानी) को ठीक करने वाले घरेलु इलाज एवं आयुर्वेदिक दवाएं

श्वेत प्रदर

श्वेत प्रदर (सफ़ेद पानी) ल्यूकोरिया या प्रदर रोग महिलाओं में होने वाला एक गंभीर रोग है | इस रोग में महिला की योनी से सफ़ेद रंग का स्राव निकलता रहता है जो महिला को शारीरिक एवं मानसिक रूप से कमजोर Read More …

प्रेगनेंसी में खून की कमी (Anemia) के कारण, लक्षण, एवं उपचार

प्रेगनेंसी में खून की कमी

प्रेगनेंसी में खून की कमी – गर्भावस्था हर महिला के लिए एक अलग अनुभव लेकर आता है | हरेक गर्भिणी माता अपने आने वाले बच्चे के लिए कई प्रकार के सपने संजोये होती है | वह गर्भावस्था में सुकून को Read More …

दशमूलारिष्ट / Dashmoolarishta – बनाने की विधि , फायदे एवं स्वास्थ्य उपयोग

दशमूलारिष्ट

दशमूलारिष्ट / Dashmoolarishta – आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति में आसव एवं अरिष्ट कल्पनाओं से निर्मित दवाओं का अपना एक अलग स्थान होता है | ये एक प्रकार के टॉनिक स्वरुप होते है एवं उत्तम गुणों के साथ – साथ दुष्प्रभाव रहित Read More …

अशोकारिष्ट / Ashokarishta – के फायदे, स्वास्थ्य लाभ, सेवन मात्रा एवं बनाने की विधि |

अशोकारिष्ट

अशोकारिष्ट / Ashokarishta in Hindi – यह एक आयुर्वेदिक फीमेल टॉनिक है | इसका प्रयोग महिलाओं की मासिकधर्म की समस्याओं में प्रमुखता से किया जाता है | मासिकधर्म के समय दर्द की समस्या, गैस होना, कृष्टार्तव, अधिक रक्त स्राव, असमय Read More …

शिवलिंगी बीज के औषधीय गुण एवं उपयोग – पुत्र जीवक बीज या गर्भ ठहराने में लाभदायक ?

दस्त एवं मरोड़ के लिए आयुर्वेदिक योग

शिवलिंगी बीज  परिचय – शिवलिंगी बरसात में पैदा होने वाली एक लता है | जो समस्त भारत वर्ष में बाग़ – बगीचों में देखि जा सकती है | यह चमकीली एवं चिकनी बेल होती है | शिवलिंगी की शाखाएं पतली Read More …

क्या माहवारी के समय सहवास सही है ?

mahavari

माहवारी (Menstruation Cycle) मासी – मासी रज: स्त्रीणां रसजं स्रवति त्र्यहम | अर्थात जो रक्त स्त्रियों में हर महीने गर्भास्य से होकर 3 दिन तक बहता है उसे रज या माहवारी कहते है | माहवारी के शुरू होने पर धीरे-धीरे Read More …

अनियमित मासिक धर्म के कारण एवं प्रमाणिक आयुर्वेदिक इलाज

अनियमित मासिक धर्म

अनियमित मासिक धर्म  अनियमित मासिक धर्म – महिलाओं में एक निश्चित उम्र के बाद मासिक धर्म का आगमन होता है | लगभग 12 से 14 साल की लड़की में यह प्रक्रिया स्वाभाविक रूप से शुरू हो जाती है | मासिक Read More …

आयुर्वेदानुसार गर्भवती महिला के लिए आहार एवं औषध की व्यवस्था |

आयुर्वेद के अनुसार गर्भवती की डाइट प्लान

गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान अपने आहार का ध्यान रखना भी परम आवश्यक है | गर्भावस्था महिला के जीवन की एसी अवस्था होती है , जो गर्भवती एवं शिशु दोनों की वर्द्धि और विकास को प्रभावित करते है | Read More …

गर्भावस्था / Pregnancy के 9 महीने – बच्चे एवं माता का विकास एवं शारीरिक परिवर्तन

गर्भावस्था के 9 महीने

गर्भावस्था के 9 महीने / 9 Months of Pregnancy in Hindi गर्भावस्था के 9 महीने – गर्भधारण करना किसी महिला के जीवन का सबसे सुखद अनुभव है | गर्भधारण होने के बाद महिला के शरीर में कौन – कौन से Read More …

एनीमिया / Anemia क्या है – इसके प्रकार, लक्षण, एवं आयुर्वेदिक उपचार

एनीमिया

एनीमिया  / Anemia in Hindi साधारण शब्दों में एनीमिया को रक्ताल्पता या पांडू रोग कहा जाता है | एनीमिया वस्तुत: रक्त से जुडी बीमारी है , जिसमे रक्त में उपस्थित हिमोग्लोबिन की मात्रा को दर्शाया जाता है | अगर रक्त Read More …