अंकोल वनस्पति – परिचय, औषधीय गुण एवं तेल निकालने की विधि

अंकोल

अंकोल / Alangium lamarckii सम्पूर्ण आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति वनस्पतियों एवं प्राकृतिक संसाधनों पर टिकी है | अगर आप आयुर्वेद को जानना चाहते है तो आपके लिए सभी वनस्पतियों एवं औषध जड़ी – बूटियों का ज्ञान होना जरुरी है | क्योंकि Read More …

जानें कामोद्दीपक तालमखाना के फायदे एवं घरेलु नुस्खें

तालमखाना क्या है  यह एक क्षुप जाति का पौधा है जो जलीय प्रदेशों में प्राप्त होता है | यह जमीन पर फैलती है एवं इसके पते लम्बे होते है, फुल नीले रंग के होते है | इसकी डालियां कांटेदार होती Read More …

कुटकी क्या है – जानें इसके औषधीय गुण एवं फायदे

कुटकी / Picrorrhiza Kurrooa  परिचय – इस औषधि को विभिन्न भाषाओँ में अलग – अलग नामों से जाना जाता है | हिंदी में इसे काली कुटकी, कडवी आदि एवं संस्कृत में तिक्ता, कान्ड़ेरुहा, चक्रंगी, कृष्णभेदी, चित्रांगी आदि नामों से जाना Read More …

गुड़मार (Gymnema Sylvestris) – परिचय, पहचान, औषधीय गुण एवं उपयोग

गुड़मार

गुड़मार (Gymnema Sylvestris) क्या है ? इस औषधि को मधुनासिनी अर्थात मधुमेह को नष्ट करने वाली माना जाता है | प्राचीन समय से ही इस औषधि का उपयोग मधुमेह के लिए किया जाता रहा है | गुड़मार का शाब्दिक अर्थ Read More …

शहद के 15 चमत्कारिक नुस्खें – इन्हें अपनाएं और स्वस्थ रहें |

शहद

शहद के 15 चमत्कारिक नुस्खें भारतीय घरों में शहद भी एक आवश्यक सामग्री में गिना जाता है | प्राचीन समय से ही हमारे यहाँ शहद से उपचार एवं मिठास के लिए प्रयोग किया जाता रहा है | इसकी मिठाश से Read More …

श्वेत प्रदर (सफ़ेद पानी) को ठीक करने वाले घरेलु इलाज एवं आयुर्वेदिक दवाएं

श्वेत प्रदर

श्वेत प्रदर (सफ़ेद पानी) ल्यूकोरिया या प्रदर रोग महिलाओं में होने वाला एक गंभीर रोग है | इस रोग में महिला की योनी से सफ़ेद रंग का स्राव निकलता रहता है जो महिला को शारीरिक एवं मानसिक रूप से कमजोर Read More …

वाजीकरण क्या है – पढ़ें वाजीकरण द्रव्य एवं औषधियां के बारे में सम्पूर्ण

Vajikaran

वाजीकरण क्या है  परिचय – आयुर्वेद को आठ भागों में बांटा गया है | जिनमे से वाजीकरण एक प्रमुख भाग है | वाजीकरण  शब्द का शाब्दिक अर्थ घोड़े के समान मैथुन क्रिया से युक्त होना होता है | अर्थात आयुर्वेद Read More …

लवंगादि वटी के स्वास्थ्य उपयोग, फायदे एवं बनाने की विधि

लवंगादि वटी

लवंगादि वटी के स्वास्थ्य उपयोग, फायदे एवं बनाने की विधि  आयुर्वेद में प्राचीन समय से ही वटी कल्पना का इस्तेमाल होता आया है | आधुनिक चिकित्सा में प्रयुक्त होने वाली टेबलेट्स एवं वटी को समतुल्य माना जा सकता है | प्राचीन Read More …

टॉन्सिल्स (Tonsils in Hindi) – आयुर्वेद के अनुसार कारण, लक्षण एवं इलाज

टॉन्सिल के उपाय

टॉन्सिल्स (Tonsils in Hindi) – आयुर्वेद के अनुसार कारण, लक्षण एवं इलाज जब मुंह में स्थित टॉन्सिल्स में सुजन आ जाता है तो उसे टोंसिलाइटीस कहते है | आयुर्वेद में इसे तुंडीकेरी शोथ कहा जाता है | यह मुखगत होने Read More …

बच्चों के पेट में कीड़े की आयुर्वेदिक दवा – जानें इसके कारण, लक्षण एवं उपचार

बच्चों के पेट में कीड़े की दवा

बच्चों के पेट में कीड़े की आयुर्वेदिक दवा – जानें इसके कारण, लक्षण एवं उपचार छोटे बच्चों को सबसे अधिक होने वाली शारीरिक समस्या है कृमिरोग | आयुर्वेद में ऐसे 20 प्रकार के कृमि (कीड़े) बताये गए है जो बच्चों Read More …