जायफल (Myristica officinalis) के स्वास्थ्य लाभ, फायदे एवं सावधानियां

जायफल / जातिफल (Myristica officinalis) जायफल के वृक्ष समुद्री तटों पर अधिक होते है | सिंगापूर, श्रीलंका, सुमात्रा, मलाया आदि द्वीपों...

Continue reading

शतावरी है एक चमत्कारिक औषधि – प्रजनन रोगों और पौरुष शक्ति में असरदार

शतावरी के स्वास्थ्य लाभ  शतावरी भारत में सर्वत्र पाई जाने वाली कांटे युक्त लता है | यह ज्यादातर जंगलो में अपने आप ही उगती है ...

Continue reading

शिलाजीत के स्वास्थ्य लाभ : Health benefits of shilajit in hindi

शिलाजीत के स्वास्थ्य लाभ : Health benefits of shilajit in hindi आयुर्वेद चिकित्सा शास्त्र में शिलाजीत का एक विशिष्ट स्थान है | शिलाज...

Continue reading

नागकेशर के स्वास्थ्य लाभ

नागकेशर एक सदाबहार वृक्ष है जो अधिकतर भारत में असम और बर्मा , बांग्लादेश ,श्रीलंका आदि देशो में बहुतायत से पाया जाता है | नागकेशर की ...

Continue reading

जाने कैसे बनता है आंवला तेल – आंवला तेल बनाने की विधि

भारतीय बाजार में बालो को काला और घना रखने के लिए बहुत सी देशी और विदेशी कंपनियां अपना प्रोडक्ट आंवला तेल के नाम से बाजार में बेचती है...

Continue reading

नारायण चूर्ण बनाने की विधि

नारायण चूर्ण नारायण चूर्ण बनाने की विधि - नारायण चूर्ण बनाने के लिए सबसे पहले छोटी पीपल - 10 ग्राम , निशोथ - 50 ग्राम और देशी कच्ची ...

Continue reading

लक्षादी चूर्ण बनाने की विधि

लक्षादी चूर्ण लक्षादी चूर्ण बनाने की विधि - सबसे पहले नील कमल के फूलो को लेकर इनको सुखा ले | अब नील कमल के सूखे फुलों के साथ - मुलहठ...

Continue reading

अग्निवर्द्धक चूर्ण बनाने की विधि

अग्निवर्द्धक चूर्ण विधि - पीसी हुई सोंठ 50 ग्राम , सेंधा नमक 150 ग्राम , काला नमक - 50 ग्राम , निम्बू का सत - 50 ग्रा...

Continue reading

कब्ज-हर चूर्ण बनाने की विधि

कब्ज-हर चूर्ण विधि - सोंठ - सौंफ - सनाय - छोटी हरेड और सेंधा नमक | इन सभी को बराबर की मात्रा में लेकर कूट-पीसकर चूर्ण...

Continue reading

वातहर चूर्ण बनाने की विधि

वात - हर चूर्ण विधि - अजमोदा , देवदारु , वाय-बिडंग , सेंधा नमक, पिपरामुल , पीपल , सौंफ और कालीमिर्च सभी 10-10 ग्राम ए...

Continue reading