उत्तम गुणकारी आयुर्वेदिक चूर्ण जिन्हें आप घर पर बना सकते हो

आयुर्वेद में औषधियों के अलग अलग तरह की होती हैं, जैसे पाक, रस, वटी, गुटीका, अवलेह, अर्क एवं चूर्ण आदि | इसमें से आयुर्वेदिक चूर्ण सबसे सरल एवं स्वास्थ्यवर्धक होते हैं क्योंकि इन्हें बनाना बहुत आसान होता है |

आयुर्वेदिक चूर्ण
आयुर्वेदिक चूर्ण

इस लेख में हम आपको कुछ ऐसे ही चूर्ण के बारे में बतायेंगे जिन्हें आप आसानी से घर पर बना सकते हैं | तो आइये जानते हैं वो कोनसे चूर्ण हैं :-

  • शांतिवर्धक चूर्ण
  • सरदर्द नाशक चूर्ण
  • शतावर्यादी चूर्ण
  • सरल विरेचन चूर्ण
  • सारस्वत चूर्ण
  • सितोपलादि चूर्ण
  • सुखविरेचन चूर्ण
  • जातिफलादी चूर्ण

Post Contents

शांतिवर्धक आयुर्वेदिक चूर्ण – बनाने की विधि, गुण उपयोग एवं फायदे

यह बहुत ही स्वादिष्ट एवं रुचिकर चूर्ण है | शांतिवर्धक चूर्ण दीपन एवं पाचन बढ़ाने वाला चूर्ण है | इसके सेवन से सभी प्रकार के उदर विकार जैसे भूख न लगना, अपच, गैस, कब्ज एवं अजीर्ण आदि रोग नष्ट हो जाते हैं | आइये जानते हैं इसे कैसे बनाया जाये :-

  • सोंठ, काली मिर्च, पीपल – सभी एक एक तोला
  • लोंग, बड़ी इलायची, निम्बू का सत्व – एक एक तोला
  • गेरू, चीनी – तीन तीन तोला
  • नोशादर – चार तोला
  • सुखा पुदीना – एक तोला
शांतिवर्धक आयुर्वेदिक चूर्ण
शांतिवर्धक आयुर्वेदिक चूर्ण

इन सभी जड़ी बूटियों को बारीक़ पीस कर कपड़छान कर लें | इसे किसी शीशी में डाल कर रख लें | इस तरह आप आसानी से इन सभी जड़ी बूटियों को लेकर इस शांतिवर्धक चूर्ण को बना सकते हैं |

शांतिवर्धक आयुर्वेदिक चूर्ण का सेवन कैसे करें ?

इसकी 2 से 4 माशे की मात्रा का सेवन खाना खाने के बाद पानी के साथ करें | इसे चुटकी से थोडा थोडा मुंह में डाल कर खाना चाहिए |

सरदर्द नाशक चूर्ण – गुण, उपयोग, फायदे एवं बनाने की विधि

आधुनिक समय में सर दर्द एक रोजमर्रा की समस्या है | हर व्यक्ति इससे परेशान है | गर्मी की वजह से, मानसिक तनाव के कारण, कमजोर पाचन और शोर शराबे वाले माहौल की वजह से सर दर्द होने लगता है | इस से छुटकारा पाने के लिए व्यक्ति अंग्रेजी दवाओं का सेवन करता है जिसके भविष्य में बहुत घातक प्रभाव देखने को मिलते हैं | सरदर्द नाशक चूर्ण एक सुरक्षित और शीघ्र असर करने वाली आयुर्वेदिक औषधि है |

इस चूर्ण के सेवन से पित्त एवं रक्तजन्य सर दर्द में बहुत लाभ होता है | इसके सेवन से न केवल सरदर्द दूर होता है अपितु निद्रा भी बहुत अच्छी आती है | आइये जानते हैं सरदर्द नाशक चूर्ण कैसे बनायें :-

  • सफ़ेद चन्दन, केशर, भांगरा
  • मुन्नका, फुलप्रियंगु, काली मिर्च
  • गिलोय, मुलेठी, सोंठ

इन सभी को समान मात्रा में लेकर बारीक़ पीस लें | अब इसमें बराबर मात्रा में मिश्री मिला दें | इस तरह से सरदर्द नाशक चूर्ण तैयार हो जाता है |

सरदर्द नाशक चूर्ण का अनुपान कैसे करें ?

इसका सेवन 3 माशे की मात्रा में शहद या दूध के साथ करना चाहिए एवं उपर से ठंडा जल पीना चाहिए |

शतावर्यादी आयुर्वेदिक चूर्ण – गुण, फायदे एवं बनाने की विधि

यह चूर्ण बहुत ही पौष्टिक, वाजीकर एवं वीर्य वर्धक है | आइये जानते हैं इसके फायदे :-

  • इसके सेवन से शरीर में सभी सप्तधातुओं की वृद्धि होती है |
  • यह उत्तम वीर्यवर्धक है |
  • इसके सेवन से शुक्र दोष खत्म हो जाता है |
  • शतावर्यादी चूर्ण के सेवन से बल एवं पौरुष शक्ति बढती है |
  • यह शुक्रवाहिनी नाड़ी की शिथिलता को दूर कर देता है |
  • इससे वीर्य का पतलापन, वीर्य की कमी जैसे सभी दोष दूर हो जाते हैं |
शतावर्यादी चूर्ण

आइये जानते हैं इसमें कौन कौन सी जड़ी बूटियां होती हैं और इसे घर पर कैसे बनाया जाये :-

  • शतावर, असगंध, कौंच बीज
  • सफ़ेद मूसली एवं गोखरू

इन सभी को बराबर मात्रा में लेकर बारीक़ पीस लें | इस तरह से यह औषधि तैयार हो जाती है |

शतावर्यादी चूर्ण का सेवन कैसे करें ?

इसका सेवन 3 से 6 माशे की मात्रा में रात को सोने से पहले गाय के दूध के साथ करना चाहिए |

सरल विरेचन आयुर्वेदिक चूर्ण के क्या फायदे हैं एवं इसे कैसे बनाते हैं ?

जैसा इसके नाम से प्रतीत हो रहा है यह विरेचन को सरल करने वाला चूर्ण है | यानि इस आयुर्वेदिक चूर्ण के उपयोग से पेट साफ होने में आसानी होती है | अगर आपका पाचन सही नहीं है एवं आपको गैस या कब्ज की समस्या रहती है तो यह चूर्ण आपके लिए बहुत फायदेमंद है | आइये जानते हैं इसके फायदे :-

  • यह विरेचन के लिए बहुत गुणकारी है |
  • जमे हुए मल को बाहर निकालने के लिए इसका उपयोग करते हैं |
  • यह आमाशय, सिर एवं नासा रोगों के लिए उत्तम औषधि है |
  • इसके सेवन से भूख न लगने एव अपच की समस्या समाप्त होती है |
  • यह खाने में भी स्वादिष्ट है |
सरल विरेचन चूर्ण
सरल विरेचन चूर्ण

बनाने की विधि एवं घटक द्रव्य :-

  • सनाय की पत्ती, अनार दाना – 16 तोला प्रत्येक
  • बड़ी हर्रे, आंवला, काला जीरा, एवं काला नमक – सभी चार चार तोला
  • सेंधा नमक – 6 तोला

इस औषधि को बनाने के लिए सभी को पीस कर चूर्ण बना लें | यह आयुर्वेदिक चूर्ण अत्यंत स्वादिष्ट एवं गुणकारी है |

सरल विरेचन आयुर्वेदिक चूर्ण का सेवन कैसे करें ?

दो या तीन माशा खाना खाने के बाद पानी के साथ सेवन करना चाहिए |

सारस्वत चूर्ण क्या है, इसे कैसे बनाते हैं एवं इसके फायदे क्या हैं ?

यह आयुर्वेदिक चूर्ण मस्तिष्क के विकारों में बहुत उपयोगी माना जाता है | उन्माद, यादाश्त की कमी, अपस्मार एवं मस्तिष्क की कमजोरी जैसी समस्याओं में इसका सेवन करने से बहुत लाभ होता है | इसे बनाने के लिए निम्न घटक द्रव्यों का उपयोग होता है :-

  • कुठ, सेंधा नमक, सफ़ेद जीरा
  • कालाजीरा, पीपल, पाठा
  • असगंध, सोंठ, अजमोद, शंखपुष्पी
सारस्वत चूर्ण
सारस्वत चूर्ण

इन सभी को एक एक तोला लेकर चूर्ण बना लें | फिर इस चूर्ण में दुधिया बच का चूर्ण बराबर मात्रा में मिला दें | अब इसमें ब्राह्मी रस की भावना देकर इसे छांया में सुखा लें |

इस चूर्ण का सेवन 2 से 4 माशा की मात्रा में सुबह शाम घृत या शहद के साथ करना चाहिए |

सितोपलादि आयुर्वेदिक चूर्ण क्या है, इसे कैसे बनाते हैं एवं इसके क्या क्या फायदे हैं ?

यह सर्वरोगहारी आयुर्वेदिक चूर्ण है | इसके सेवन से सर्दी, जुखाम, खांसी, सर दर्द, हाथ पैरो में जलन, अग्निमांध, अपच एवं भूख न लगने जैसे अनेको रोग दूर हो जाते हैं | बच्चों में सर्दी खांसी एवं कफ जमने की समस्या बहुत होती है, ऐसे में यह चूर्ण बहुत हितकारी होता है | पित्त वर्द्धि के कारण अगर कफ छाती में जम गया हो तो इसके सेवन से बहुत लाभ होता है | इस चूर्ण को आप आसानी से घर पर तैयार कर सकते हैं | इसके लिए निम्न जड़ी बूटियों की आवश्यकता होगी :-

  • मिश्री – 17 तोला
  • वंशलोचन – 8 तोला
  • पिप्पली – 4 तोला
  • छोटी इलायची – 2 तोला
  • दालचीनी – 1 तोला
सितोपलादि चूर्ण
सितोपलादि चूर्ण

इन सभी को कूट छान कर चूर्ण बना लें | सर्दी जुकाम, कफ, खांसी, ज्वर, क्षय एवं अग्निमांध जैसी समस्याओं में इसकी 2 माशे की मात्रा का सेवन सुबह शाम शहद के साथ करना चाहिए |

सुखविरेचन आयुर्वेदिक चूर्ण – गुण, फायदे एवं बनाने की विधि |

यह आयुर्वेदिक चूर्ण मृदु विरेचक औषधि है | अपच एवं कब्ज की समस्या में इसका सेवन बहुत फायदेमंद होता है | यह कब्जियत को शीघ्र नष्ट करता है | इसके एक दो बार सेवन से ही दस्त खुल कर लगने लग जाते हैं | यह उदर एवं आंतो में होने वाली जलन को भी कम करता है एवं जठराग्नि को प्रज्वलित करता है | इस चूर्ण को बनाने के लिए निम्न जड़ी बूटियों का उपयोग होता है :-

  • निशोथ, काला दाना, सनाय की पत्ती – 6 – 6 तोला
  • सोंफ, हरड का छिलका, गुलाब के फुल – 3-3 तोला

इन सभी को बताई गयी मात्रा में लेकर चूर्ण बना लें | इसका सेवन तीन से छः माशे की मात्रा में रात को सोने से पहले एवं सुबह उठते ही गुनगुने पानी के साथ करना चाहिए | इससे कब्ज दूर होती है एवं साफ दस्त लगता है |

जातिफलादी चूर्ण – गुण, फायदे एवं बनाने की विधि |

यह बेहद गुणकारी आयुर्वेदिक चूर्ण है | इससे गृहणी, अतिसार, पेट में दर्द एवं मरोड़, भोजन में अरुचि, मन्दाग्नि एवं वात तथा कफ विकार दूर हो जाते हैं | इसमें भांग की मात्रा विशेष होने से यह दस्त रोकने वाला होता है | यह खाने में रुचिकर एवं मधुर होता है | इसे बनाने के लिए निम्न द्रव्यों की आवश्यकता होती है :-

  • जायफल, लोंग, छोटी इलायची, तेजपता
  • दालचीनी, नागकेशर, कपूर
  • सफ़ेद चंदन, काला तिल, वंशलोचन
  • तगर, आंवला, तालीशपत्र
  • पीपल, हर्रे, चित्रकछाल
  • सोंफ, वायविडंग, मिर्च, कलोंजी
जातिफलादी चूर्ण
जातिफलादी चूर्ण

इन सभी जड़ी बूटियों को बारीक़ पीस कर चूर्ण बना लें | अब इसमें बराबर मात्रा में धुली हुयी भांग का चूर्ण मिला दें | इस मिश्रण में अब बराबर भाग में मिश्री मिला लें |

इसकी एक से दो माशा की मात्रा का सेवन सुबह शाम करना चाहिए |

धन्यवाद !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
Hello
Can We Help You