Covid-19, स्वास्थ्य

CoronaVirus (Covid-19) Advice & Ayurveda Care

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार नावेल कोरोना वायरस (Covid-19) अब तक 166 देशों में फ़ैल चूका है | अब तक 207855 कन्फर्म केस जिसमे से 8648 मौतें निश्चित हो चुकी है |  हमारे देश में भी 166 कनफर्म्ड कोरोना वायरस से पीड़ितों की संख्या पहुँच चुकी है | यहाँ हम कोरोना वायरस से सम्बंधित सभी जानकारी आप तक लेकर आये है |

0
Confirmed Positive Case (163+32)
Stage
Level Stage 2 66.12%

City Wise Covid-19 Affected List

[cfgeo_banner id="10756"]

Corona Virus Safety Tips

 कोरोना वायरस ने सम्पूर्ण विश्व को एक हेल्थ इमरजेंसी में लाकर खड़ा कर दिया है | वास्तव में इस महामारी से लड़ने में कोई भी देश समर्थ नहीं है | अभी तक चिकित्सा इतिहास में इतने बड़े पैमाने पर कोई महामारी नहीं फैली थी | इस वायरस की फैलने की क्षमता का अंदाजा अभी तक नहीं लगाया जा सका है एवं इसकी दवा का निर्माण भी नहीं किया जा सका है | हालाँकि लक्षणों एवं उचित चिकित्स के माध्यम से कोरोना से पीड़ित ठीक हो जाते है | अत:  लोगों को सिर्फ बचने की सलाह दी जाती है |

वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन ने कोरोना से बचाव कुछ टिप्स दिए है | जिन्हे आम नागरिकों को अपनाने चाहिए | हमारे देश में भी मेडिकल आपातकाल की स्थिति घोषित हो चुकी है | क्योंकि इसके माध्यम से ही इसे फैलने से रोका जा सकता है |

  • अपने हाथों को सेनेटीज़र या साबुन से नियमित धोएं
  • उचित दुरी बनायें रखें | किसी भी खांसते या छींकते हुए इंसान से कम से कम 1 मीटर की दुरी बनायें |
  • अपने मुंह, नाक एवं आँखों को हाथ धोएं बैगर न छुएं
  • हाथ मिलाने की जगह हाथ जोड़कर नमस्कार को अपनाएं |
  • छींकते एवं खांसते समय रुमाल या कोहनी का प्रयोग करें |
  • भीड़भाड़ वाली जगह जाने से बचें
  • बाहर जाना आवश्यक है तो डिस्पोजेबल 3 लेयर वाला मास्क पहनें
  • अगर आप जुकाम, बुखार एवं खांसी से पीड़ित है तो चिकित्सक से सम्पर्क करें |

आयुर्वेद के माध्यम से बढ़ाएं अपनी रोगप्रतिरोधक क्षमता

कोरोना वायरस से अधिकतर कमजोर प्रतिरोधी प्रणाली वाले एवं बुजुर्ग जल्दी संक्रमित होते है | जिन्हे श्वसन तंत्र के विकार हैं , बुजुर्ग एवं  बार – बार जुकाम से पीड़ित रहने वाले व्यक्ति इस वायरस की चपेट में जल्दी आते है |

बसंत ऋतू में आयुर्वेद अनुसार कफज विकार  अपनी चपेट में लेते है | ऐसे में जिन लोगों की रोगप्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है वे इस ऋतू में कफज विकारों से बचे रहते है | कोरोना वायरस में  सामान्य सर्दी जुकाम के सभी लक्षण देखे जा सकते है | अत: आयुर्वेद की रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली जड़ी – बूटियों का सेवन करके अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाया जा सकता है |

इसके लिए आप प्रतिरोधक क्वाथ का निर्माण घर पर करके सेवन कर सकते है | सबसे पहले ताजा गिलोय 80 ग्राम की मात्रा में लें , तुलसी के पत्ते – 20 ग्राम, अदरक – 20 ग्राम, हल्दी – 15 ग्राम  कालीमिर्च – 5 ग्राम | इन सभी जड़ी – बूटियों को निर्देशित मात्रा में लेकर इनको मिश्रित कर यवकुट करलें |

अब  250 ml पानी में इस औषधीय मिश्रण की 15 ग्राम मात्रा डालकर मंदाग्नि पर अच्छी तरह उबाल लें | जब पानी एक चौथाई बचे तब इसे निचे उतार कर ठंडा करके एवं छानकर सेवन करें |

इसका सेवन करने से शरीर में रोगप्रतिरोधक क्षमता का विकास होता है एवं मौसम परिवर्तन के समय होने वाले सामान्य विकारों से बचा जा सकता है |

Avatar

About स्वदेशी उपचार

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.