शीतली प्राणायाम की विधि – लाभ एवं सावधानियां |

शीतली प्राणायाम

शीतली प्राणायाम

इस प्राणायाम से शरीर का तापमान कम किया जा सकता है | यहाँ प्रयोग किया गया “शीतली” शब्द का अर्थ होता है – ठंडा करना | अर्थात शीतली प्राणायाम से शरीर की उष्णता को कम किया जा सकता है | यह बेहद ही सरल और आसान प्राणायाम है | इस प्राणायाम को अपनाने से शरीर में व्याप्त पित दोष का शमन होता है |

शीतली प्राणायाम करने की विधि

  • सबसे पहले सिद्धासन या पद्मासन में बैठ जाए |
  • अपनी गर्दन , सिर और मेरुदंड को सीधा रखे |
  • दोनों हाथो को घुटनों पर रखे |
  • अब अपनी जीभ को मुंह से थोडा बाहर निकालकर नलिका नुमा मोड़े | जीभ से अर्धचन्द्राकर नलिका बना ले |
  • अब धीरे – धीरे श्वास को अन्दर ले | श्वास इतना ले की फेफड़े पुरे भर जाए |
  • इस स्थिति में थोड़ी देर कुम्भक करे |
  • अब जीभ को अंदर लेकर , मुंह को बंद करले |
  • अब चेहरे को निचे की तरफ झुकाते हुए जालन्धर बंध करे |
  • कुच्छ देर कुम्भक करने के बाद श्वास को धीरे – धीरे नाक से छोड़ दे |
  • इस प्रकार शीतली प्राणायाम का यह एक चक्र पूरा हुआ |
  • इस प्राणायाम को कम से कम 5 मिनट करे |

शीतली प्राणायाम के लाभ / फायदे

और पढ़ेसूर्य भेदन प्राणायाम के लाभ 

  • यह प्राणायाम मन को प्रसन्न करने वाला और शरीर में व्याप्त पित दोष का हरण करने वाला है |
  • शरीर को ठंडक प्रदान करता है |
  • शीतली प्राणायाम को करने से प्यास बुझती है |
  • हाई ब्लड प्रेस्सर को कम करने में फायदेमंद है |
  • आँखों की रौशनी बढती है |
  • काम के दौरान आई थकावट और तनाव को दूर करने में लाभदायक है |
  • त्वचा विकारों में लाभदायक है |
  • नित्य अपनाने से शरीर में कान्ति आती है |
  • पित से सम्बंधित सभी रोगों में फायदा होता है |

शीतली प्राणायाम की सावधानियां

  • निम्न रक्त चाप के रोगी इस प्राणायाम को न करे |
  • अस्थमा , श्वास या दमा के रोगी शीतली प्राणायाम से परहेज करे |
  • कफज प्रकृति के लोग भी इसे न करे |
  • कोष्ठबद्धता से पीड़ित योग गुरु से परामर्श ले कर ही अपनाये |
  • इस प्राणायाम को अधिक देर तक नहीं करना चाहिए |

बाल काले करना चाहते है तो इस पोस्ट को पढ़े 

धन्यवाद |

Related Post

मकोय : परिचय एवं चमत्कारिक स्वास्थ्य लाभ... मकोय का परिचय लगभग सम्पूर्ण भारत में पायी जाने वाली वनस्पति है जो अधिकतर आद्र और छायादार जगहों पर उगती है, इसके पौधे की अधिकतम लम्बाई 2 से 2.5 फीट ...
अकरकरा औषधि परिचय एवं स्वास्थ्य उपयोग या फायदे जान... अकरकरा - इस आयुर्वेदिक औषध द्रव्य से कम लोग ही परिचित है | आयुर्वेद के आर्ष संहिताओं में भी इस द्रव्यों का वर्णन उपलब्ध नहीं होता | इसका सर्वप्रथम वर्...
अदरक के 15 फायदे जान ले – काम आयेंगे... अदरक (Zingiber officinale) अदरक ( आर्द्रक ) का अर्थ है - नमी की रक्षा करने वाली | अदरक जिन्जिबेरेशी कुल का पौधा है | ज्यादातर यह उष्णकटीबंध या शी...
पिप्पली – परिचय, गुणधर्म, फायदे एवं औषधीय उप... पिप्पली (Piper Longum) पिप्पली दो प्रकार की होती है | छोटी पिप्पल और बड़ी पिप्पली | हमारे देश में प्राय: छोटी पिप्पल ही पाई जाती है | बड़ी पीपल अधिकतर ...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.