विटामिन ई – फायदे , साधन, कार्य और दैनिक आवश्यकता |

विटामिन ई

विटामिन ई के बारे में आप सभी ने सुना होगा | यह स्वास्थ्य और सेहत के लिए बहुत ही आवश्यक विटामिन है | बालों को स्वस्थ रखने , सौन्द्रिय बनाये रखने एवं बच्चों के स्वास्थ्य के लिए विटामिन की अत्यंत आवश्यकता पड़ती है | इस विटामिन की खोज सन 1922 में एवंस और बिशॉप ( Evans and Bishop) ने की थी | इन्होने अपने प्रयोगों एवं अनुसंधानों से यह सिद्ध किया की चूहों में सामान्य प्रजनन क्रिया संपन्न करने के लिए एक तत्व की आवश्यकता होती है | यह तत्व कच्ची वनस्पतियों में पाया जाता है |

इन्होने इस तत्व को विटामिन ई नाम दिया | सन 1924 में वैज्ञानिक Shure ने इसे “Anti Sterlity Factor” (बंध्यता प्रतिरोधक पदार्थ ) नाम दिया | सन 1936 में ईवान्स और साथियों ने इसे गेंहू के भ्रूण के तेल से विटामिन ‘E’ शुद्ध रूप से प्रथक किया , एवं रासायनिक सरंचना के आधार पर इसे – ” a-b टोकोफ़ेरॉल (Tocopherol) नाम दिया |

एक महारसायन – मर्दाना कमजोरी के लिए    internal linking

विटामिन ई
vitamin ‘e’

इस पोस्ट में आप Vitamin E in Hindi का सम्पूर्ण विवरण जैसे – विटामिन ई क्या है ?,  विटामिन इ का अवशोषण, संग्रह एवं विसर्जन | vitamin e के कार्य , विटामिन e की कमी के प्रभाव , इसके प्राप्ति साधन और इसके फायदे आदि के बारे में पढेंगे |

शरीर में विटामिन ई का अवशोषण , संग्रह और विसर्जन

हमारे शरीर में vitamin ‘E’ का अवशोषण छोटी आंत के द्वारा किया जाता है | लेकिन अवशोषण होने के लिए वसा और पितरस ( Bile Juice ) का होना जरुरी है | वसा और पीतरस की अनुपस्थिति में विटामिन ‘E’ का अवशोषण नहीं हो पाता | मुख्यतया यह वसा और वसा घुलनशील अन्य विटामिनों के साथ रक्त में अभिशोषित हो जाता है | रक्त वाहिनियों के द्वारा यह विटामिन शरीर के सभी ऊतको एवं कोषों तक पहुँचाया जाता है |

संग्रह  – शरीर में विटामिन ई का संग्रह यकृत , मांसपेशियों , एडिपोज , ऊतक और शरीर के अन्य अवयवों में होता है | लेकिन यकृत में इसका संग्रह सबसे अधिक होता है | एक वयस्क व्यक्ति के रक्त प्लाज्मा में इसकी मात्रा 0.9 से 1.2 mg/100 ml होती है |

विसर्जन – भोजन द्वारा ग्रहण किया गया विटामिन ‘E’ का आधे से अधिक भाग मल द्वारा विसर्जित हो जाता है |

विटामिन ई के कार्य और फायदे

1 . प्रजनन में सहायक

विटामिन ई सामान्य प्रजनन में महतवपूर्ण भूमिका निभाता है | इसकी कमी से स्त्री और पुरुष दोनों में ही प्रजनन शक्ति क्षीण हो जाती है | यौन हार्मोन का स्रवन अनियमित , अनियंत्रित एवं असंतुलित हो जाता है | इसी कारण से इसे ” बंध्यता प्रतिरोधक पदार्थ ” भी कहते है | सामान्यत: शरीर में विटामिन ई की कोई कमी नहीं होती लेकिन किन्ही कारणों से अगर कमी हो भी गई हो तो यह आपके प्रजनन क्षमता को प्रभावित करेगी |

2 . RBC निर्माण में उपयोगी

विटामिन ‘ई’ RBC के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है | यह लाल रक्त कणिकाओं को ओक्सिकारक पदार्थो से टूटने – फूटने से बचाता है | जैसे Hydrogen Peroxide से आदि से |

3 . न्यूक्लिक अम्ल और प्रोटीन के चयापचय में

विटामिन ‘E’ का न्यूक्लिक अम्ल और प्रोटीन के चयापचय में महत्वपूर्ण स्थान है | यह हीम प्रोटीन ( Heme Protein ) के संश्लेषण में सहायक होता है |

4 . मांसपेशियों की क्रिया में सहायक

मांसपेशियों की सामान्य क्रिया में भी विटामिन ई सहायक होता है | मैत्रोकोंद्रिया के भीतरी भाग में भी विटामिन ई काफी मात्रा में होता है | इसके आभाव में ह्रदय के उतकों और पेशियों में कई प्रकार के विकार उत्पन्न हो जाते है | अत: विटामिन ई की कमी मांसपेशियों और हृदय के ऊतकों के लिए हानिकारक सिद्ध होती है |

5 . यकृत में विटामिन ई के फायदे

Vitamin ‘E’ यकृत को विभिन्न विषैले पदार्थों जैसे – कार्बन टेट्राक्लोराइड आदि से सुरक्षा प्रदान करता है | इसकी सामान्य मात्रा रहने तक यकृत ठीक प्रकार से कार्य करता है और स्वस्थ रहता है |अगर शरीर में इसकी कमी हो जाती है तो यकृत में विकार उत्पन्न होने लगते है एवं यकृत में घाव भी उत्पन्न होने लगते है |

6 . विभिन्न रोगों में उपचारात्मक प्रयोग

इन रोगों में विटामिन ई बतौर उपचार अधिक प्रभावी सिद्ध होता है

बार-बार गर्भपात होने से रोकने में , बाँझपन , मधुमेह , हृदय रोग , त्वचा संबधी विकारो में , शिशुओ में होने वाली रक्ताल्पता , मांसपेशियों की दुर्बलता में और बालों आदि के विकारो में 500 से 1000 mg विटामिन ई देने से रोगी में अपेक्षित सुधर होता है | लेकिन ध्यान दे इससे अधिक मात्रा का सेवन दवाईयो के रूप में vitamin e लेना आपके शरीर के लिए नुकसान दायक होता है अगर 3 से 4 ग्राम विटामिन ई प्रतिदिन दवाई के रूप में लिया जाए तो इससे शरीर में विषाक्तता उत्पन्न होने लगती है |

यहाँ पढ़े Vitamin A के फायदों के बारे में 

विटामिन ई के प्राप्ति साधन

वैसे तो विटामिन ई सभी भोज्य पदार्थो में प्रचुर मात्रा में उपलब्ध रहता है | लेकिन गेंहू और मक्का के भ्रूण के तेल में प्रचुर मात्रा में विटामिन ई पाया जाता है | आप निम्न सारणी से विभिन्न खाद्य पदार्थो में उपलब्ध विटामिन ई की मात्रा को पढ़ सकते है |

सर्वोतम साधन - कुल विटामिन ई (mg/100gm)उत्तम साधन - कुल विटामिन ई (mg/100gm)निकृष्ट साधन - कुल विटामिन ई (mg/100gm)
गेंहू के भ्रूण का तेल - 255mgजौ - 3.2mgगाजर - 0.5mg
चावल के चोकर का तेल - 91mgजई का आटा - 2.1mgप्याज - 0.3mg
अलसी का तेल - 113mgचावल भूसा सहित - 2.4mgटमाटर - 0.4mg
सोयाबीन का तेल - 70mgगेंहू का आटा - 2.2mgकेला - 0.4mg
मूंगफली का तेल - 22mgमैदा - 1.2mgसंतरा - 0.2mg
सरसों का तेल - 32mgमखन - 2.4mg

विटामिन ई की दैनिक आवश्यकता

भारतीय चिकित्सा अनुसन्धान परिषद् (ICMR) ने 1989 में विटामिन ‘ई’ की दैनिक आवश्यकता की प्रस्तावना प्रस्तुत की जिसे आप निम्न सारणी से अच्छी तरह समझ सकते है |

अवस्थाएँ विटामिन ई
(mg/प्रतिदिन)
शैशवास्था
0-1 वर्ष
3-4
बाल्यावस्था
2-10 वर्ष
5-7
किशोरावस्था
18 वर्ष तक
7-8
वयस्क स्त्री और पुरुष
8
गर्भवती स्त्री 10
धात्री स्त्री 10

 

स्वास्थ्य से जुडी अन्य महत्वपूर्ण जानकारियों के लिए हमारे Facebook Page – “स्वदेशी उपचार” को Like करना न भूले | पेज को Like करने से आप अन्य आने वाली सभी नयी जानकारियों से अपडेट रहेंगे |

धन्यवाद |

 

 

 

Related Post

विटामिन के – प्रकार , कार्य , फायदे और कमी क... विटामिन 'के' परिचय - विटामिन K की खोज डैम (Dam) और स्कोनहेडर (Schonheyder) ने मिलकर की थी | उन्होंने सन 1934 में इस विटामिन को खोज निकला था | इन्ह...
विटामिन ए – स्रोत , फायदे और कमी के प्रभाव (... विटामिन ए क्या है  शरीर को पूर्णत: स्वस्थ रखने के लिए विटामिनो की आवश्यकता होती है | हममें से अधिकतर विटामिन ए के बारे में सिर्फ इतना ही जानते है की ...
विटामिन सी / Vitamin ‘C’ – लाभ ,... विटामिन सी / Vitamin 'C' विटामिन सी से तो सभी भली भांति परिचित है | बुजुर्ग हो या छोटा बच्चा सभी को इस विटामिन के बारे में थोड़ा बहुत ज्ञान तो अवश्य ह...
विटामिन डी – कमी से रोग, स्रोत और महत्व... विटामिन डी विटामिन डी वसा में घुलनशील दूसरा महत्वपूर्ण विटामिन है। विटामिन मुख्यतया दो प्रकार का होता है - विटामिन डी2 और विटामिन डी3 । विटामिन डी2 क...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.