पोटैशियम – साधन, कार्य और शरीर में इसकी कमी के कारण

Post Contents

पोटैशियम 

पोटैशियम का शरीर निर्माण में अत्यंत ही महत्वपूर्ण स्थान है | यह तंतुओ एवं कोशिकाओं के निर्माण में अमूल्य योगदान देता है | Potassium की अधिकांस मात्र शरीर की विभिन्न कोशिकाओं में मौजूद रहती है | अल्प मात्रा में यह बाह्य कोशिए रसों में भी उपस्थित रहता है |

"<yoastmark

एक स्वस्थ व्यस्क व्यक्ति के शरीर में 250 ग्राम Potassium उपस्थित रहता है | जो निश्चित ही सोडियम की अपेक्षा लगभग ढाई गुना ज्यादा है | शरीर में कुल पोटैशियम का 90% विभिन्न उतकों एवं लाल रक्त कणिकाओ में ( RBC)मौजूद   रहता है एवं शेष 10% बाह्य कोषीय पदार्थो में उपस्थित रहता है |

शरीर में पोटैशियम की दैनिक मांग 

सामान्यत: किसी भी व्यक्ति के शरीर में Potassiumकी कमी नहीं होती है | प्रतिदिन 2 – 4 ग्राम Potassium भोज्य पदार्थो द्वारा हमारे शरीर को प्राप्त हो जाता है | परन्तु इसकी मात्रा हमारे द्वारा ग्रहण किया गये भोजन पर निर्भर करता है |

पोटैशियम प्राप्ति के साधन 

प्रकृति में सभी प्रकार के भोज्य पदार्थो में पोटैशियम की प्रचुर मात्रा प्रदान की है | दाल , तेलबीज , दूध , दही , पनीर, अंडा , मांस, मछाली , मुर्गा , फल एवं सब्जियां पोटैशियम प्राप्ति के उत्तम साधन है | इसके अलावा मक्खन , ब्रेड और बिस्कुट आदि में भी अल्प मात्रा में Potassium प्राप्त होता है |

इस सारणी से आप विभिन्न प्रकार के भोज्य पदार्थो में उपलब्ध Potassium की मात्रा को अच्छी तरह से समझ सकते है |

प्राणिज स्रोत - mg/100 ग्राम वनस्पतीज - mg/100 ग्राम सूखे मेवे - mg/100 ग्राम फल और सब्जियां - mg/100 ग्राम
गाय का दूध - 140 mgगेंहू का आटा - 101 mgकाजू - 856 mgसेव - 110 mg
सम्पूर्ण दूध पाउडर - 1260 mgजौ - 179 mgबादाम - 425 mgचेरी - 191 mg
मुर्गी का अंडा - 129 mgगेंहू सम्पूर्ण - 349 mgमूंगफली - 686 mgअंगूर - 158 mg
मछली -304 mgउड़द - 643 mgसंतरा - 200 mg
सुवर का मांस - 390 mgमुंग दाल - 643 mgनींबू - 104 mg
अरहर - 640 mgपपीता - 234 mg
मैसूर दाल - 402 mgनाशपाती - 130 mg
फुल गोभी - 295 mg
पता गोभी - 233 mg
गाजर - 341 mg

पोटैशियम के कार्य 

सोडियम एवं क्लोरिन की भांति Potassium भी शरीर में विभिन्न जैविक क्रिया कलापों को संपन्न करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है | जैसे –

1 . शरीर में अम्ल और क्षारता को संतुलित करना ( To Regulate Acid-Base Balance )

शरीर में Potassium कोशिकाओं में मुख्य धनायन के रूप में रहता है | जो अम्ल और क्षार के संतुलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है | अगर हमारे शरीर की अम्लीयता और क्षारीयता दोनों संतुलित है तो शरीर बहुत सी व्याधियों से बच सकता है |

2 . शरीर के तरल पदार्थो के संतुलन में ( To Balance Body Fluids )

पोटैशियम शरीर के बाह्य कोषीय रसो में कार्य करता है | जिस प्रकार सोडियम कार्य करता है ठीक उसी प्रकार |  Potassium शरीर के तरल पदार्थो को संतुलन करने का कार्य करता है |

3 . मांसपेशियों के संकुचन में सहायक ( Assist in Contraction of Muscles )

जब शरीर में मांसपेशिया संकुचित होती है तो Potassium पेशियों से निकलकर बाह्य कोषीय रसों में चला जाता है और जब इनका विमोचन होता है तो वे पुन: बाह्य कोषीय रसों में चला जाता है | इस प्रकार यह मंस्पेशियो के संकुचन में सहायक सिद्ध होता है |

4 . हृदय की धड़कन की गति को नियमित रखने में सहायक है |

5 . कोशिका द्रव्यों में परसारण दाब को नियमित रखने में सहायक

6 . कोशिकाओं के आन्तरिक PH को नियमित रखने में सहायक है |

7 . पोटैशियम नाडी तंतुओ के उतेजना के संहावन  के लिए नितात  जरुरी होता है |

8 . ग्लैकोजन के संश्लेषण में सहायक 

ग्लैकोजन के संश्लेषण के लिए पोटैशियम अत्यंत ही महत्वपूर्ण है | जब 1 ग्राम ग्लैकोजन का संश्लेषण यकृत में होता है तो 14 mg Potassium जमा होता है |

9 . शरीर की वर्द्धि एवं विकास में सहायक 

पोटैशियम कोषों के अंत: द्रव्यों में पाया जाता है | यह उतकों की वर्द्धि एवं निर्माण के लिए अत्यंत आवश्यक होता है | जब 6.25 ग्राम उतक प्रोटीन का संश्लेषण होता है तो 117 mg Potassium उतकों में जाकर जमा होता है |

शरीर में पोटैशियम की कमी होने के कारण 

जब शरीर में पोटैशियम की कमी हो जाती है तो इसे “ह्य्पोकलेमिया” ( Hypokalemia ) कहते है | इस स्थिति में रक्त सीरम  में Potassium की मात्रा सामान्य से अत्यंत ही कम हो जाती है | सामान्य स्थिती में रक्त सीरम में  20mg / 100 ml Potassium की मात्रा होनी चाहिए |

आम तौर पर किसी भी  व्यक्ति में Potassium की कमी नहीं होती लेकिन फिर भी इन निम्न कारणों के कारण शरीर में Potassium की कमी हो सकती है |

1 . एड्रिनल कार्तिकल हार्मोन के अत्यधिक श्रावण से 

एड्रिनल कार्तिकल हार्मोन के अत्यधिक स्रवण से ” कुशिंग सिंड्रोम” रोग हो जाता है | इस स्थिति में शरीर से अधिक मात्रा में पोटैशियम का निष्काशन हो जाता है | फलत: शरीर में इसकी की कमी हो जाती है |

2 . मूत्रवर्धक के बार – बार प्रयोग करने से भी पोटैशियम की कमी हो जाती है |

3 . लम्बे समय तक डायरिया होने पर ( Prolonged Diarrhoea )

लम्बे काल तक डायरिया होने से पोटैशियम का निष्कासन मल से हो जाता  है | फलत:  शरीर में इसकी की कमी हो जाती है |

4 . बार – बार उल्टी होने  से 

बार – बार उल्टी होने से अमाशय से पाचक रसों का निष्काशन हो जाता है | फलत: शरीर में Potassium लवण की कमी हो जाती है |

5 . डायबिटिक कोमा में 

डायबिटिक कोमा का इलाज इन्सुलिन हार्मोन से किया जाता है जिस कारण से शरीर से पोटैशियम बाहर निकल जाता है |

अन्य स्वास्थ्य से सम्बन्धी जानकारियों के लिए आप हमारे ” Facebook Page – स्वदेशी उपचार ” को Like करले , ताकि आप तक हमारी सभी नयी अपडेट पंहुचती रहे  | फेसबुक पेज का  विजेट बॉक्स इसी पोस्ट के निचे स्क्रोल करने से  मिल जावेगा |

धन्यवाद |

credit – डॉ बृंदा सिंह |

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.