Mail : treatayurveda@gmail.com
पोटैशियम हिंदी

पोटैशियम – साधन, कार्य और शरीर में इसकी कमी के कारण

Post Contents

पोटैशियम 

पोटैशियम का शरीर निर्माण में अत्यंत ही महत्वपूर्ण स्थान है | यह तंतुओ एवं कोशिकाओं के निर्माण में अमूल्य योगदान देता है | Potassium की अधिकांस मात्र शरीर की विभिन्न कोशिकाओं में मौजूद रहती है | अल्प मात्रा में यह बाह्य कोशिए रसों में भी उपस्थित रहता है |

"<yoastmark

एक स्वस्थ व्यस्क व्यक्ति के शरीर में 250 ग्राम Potassium उपस्थित रहता है | जो निश्चित ही सोडियम की अपेक्षा लगभग ढाई गुना ज्यादा है | शरीर में कुल पोटैशियम का 90% विभिन्न उतकों एवं लाल रक्त कणिकाओ में ( RBC)मौजूद   रहता है एवं शेष 10% बाह्य कोषीय पदार्थो में उपस्थित रहता है |

शरीर में पोटैशियम की दैनिक मांग 

सामान्यत: किसी भी व्यक्ति के शरीर में Potassiumकी कमी नहीं होती है | प्रतिदिन 2 – 4 ग्राम Potassium भोज्य पदार्थो द्वारा हमारे शरीर को प्राप्त हो जाता है | परन्तु इसकी मात्रा हमारे द्वारा ग्रहण किया गये भोजन पर निर्भर करता है |

पोटैशियम प्राप्ति के साधन 

प्रकृति में सभी प्रकार के भोज्य पदार्थो में पोटैशियम की प्रचुर मात्रा प्रदान की है | दाल , तेलबीज , दूध , दही , पनीर, अंडा , मांस, मछाली , मुर्गा , फल एवं सब्जियां पोटैशियम प्राप्ति के उत्तम साधन है | इसके अलावा मक्खन , ब्रेड और बिस्कुट आदि में भी अल्प मात्रा में Potassium प्राप्त होता है |

इस सारणी से आप विभिन्न प्रकार के भोज्य पदार्थो में उपलब्ध Potassium की मात्रा को अच्छी तरह से समझ सकते है |

प्राणिज स्रोत - mg/100 ग्रामवनस्पतीज - mg/100 ग्रामसूखे मेवे - mg/100 ग्रामफल और सब्जियां - mg/100 ग्राम
गाय का दूध - 140 mgगेंहू का आटा - 101 mgकाजू - 856 mgसेव - 110 mg
सम्पूर्ण दूध पाउडर - 1260 mgजौ - 179 mgबादाम - 425 mgचेरी - 191 mg
मुर्गी का अंडा - 129 mgगेंहू सम्पूर्ण - 349 mgमूंगफली - 686 mgअंगूर - 158 mg
मछली -304 mgउड़द - 643 mgसंतरा - 200 mg
सुवर का मांस - 390 mgमुंग दाल - 643 mgनींबू - 104 mg
अरहर - 640 mgपपीता - 234 mg
मैसूर दाल - 402 mgनाशपाती - 130 mg
फुल गोभी - 295 mg
पता गोभी - 233 mg
गाजर - 341 mg

पोटैशियम के कार्य 

सोडियम एवं क्लोरिन की भांति Potassium भी शरीर में विभिन्न जैविक क्रिया कलापों को संपन्न करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है | जैसे –

1 . शरीर में अम्ल और क्षारता को संतुलित करना ( To Regulate Acid-Base Balance )

शरीर में Potassium कोशिकाओं में मुख्य धनायन के रूप में रहता है | जो अम्ल और क्षार के संतुलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है | अगर हमारे शरीर की अम्लीयता और क्षारीयता दोनों संतुलित है तो शरीर बहुत सी व्याधियों से बच सकता है |

2 . शरीर के तरल पदार्थो के संतुलन में ( To Balance Body Fluids )

पोटैशियम शरीर के बाह्य कोषीय रसो में कार्य करता है | जिस प्रकार सोडियम कार्य करता है ठीक उसी प्रकार |  Potassium शरीर के तरल पदार्थो को संतुलन करने का कार्य करता है |

3 . मांसपेशियों के संकुचन में सहायक ( Assist in Contraction of Muscles )

जब शरीर में मांसपेशिया संकुचित होती है तो Potassium पेशियों से निकलकर बाह्य कोषीय रसों में चला जाता है और जब इनका विमोचन होता है तो वे पुन: बाह्य कोषीय रसों में चला जाता है | इस प्रकार यह मंस्पेशियो के संकुचन में सहायक सिद्ध होता है |

4 . हृदय की धड़कन की गति को नियमित रखने में सहायक है |

5 . कोशिका द्रव्यों में परसारण दाब को नियमित रखने में सहायक

6 . कोशिकाओं के आन्तरिक PH को नियमित रखने में सहायक है |

7 . पोटैशियम नाडी तंतुओ के उतेजना के संहावन  के लिए नितात  जरुरी होता है |

8 . ग्लैकोजन के संश्लेषण में सहायक 

ग्लैकोजन के संश्लेषण के लिए पोटैशियम अत्यंत ही महत्वपूर्ण है | जब 1 ग्राम ग्लैकोजन का संश्लेषण यकृत में होता है तो 14 mg Potassium जमा होता है |

9 . शरीर की वर्द्धि एवं विकास में सहायक 

पोटैशियम कोषों के अंत: द्रव्यों में पाया जाता है | यह उतकों की वर्द्धि एवं निर्माण के लिए अत्यंत आवश्यक होता है | जब 6.25 ग्राम उतक प्रोटीन का संश्लेषण होता है तो 117 mg Potassium उतकों में जाकर जमा होता है |

शरीर में पोटैशियम की कमी होने के कारण 

जब शरीर में पोटैशियम की कमी हो जाती है तो इसे “ह्य्पोकलेमिया” ( Hypokalemia ) कहते है | इस स्थिति में रक्त सीरम  में Potassium की मात्रा सामान्य से अत्यंत ही कम हो जाती है | सामान्य स्थिती में रक्त सीरम में  20mg / 100 ml Potassium की मात्रा होनी चाहिए |

आम तौर पर किसी भी  व्यक्ति में Potassium की कमी नहीं होती लेकिन फिर भी इन निम्न कारणों के कारण शरीर में Potassium की कमी हो सकती है |

1 . एड्रिनल कार्तिकल हार्मोन के अत्यधिक श्रावण से 

एड्रिनल कार्तिकल हार्मोन के अत्यधिक स्रवण से ” कुशिंग सिंड्रोम” रोग हो जाता है | इस स्थिति में शरीर से अधिक मात्रा में पोटैशियम का निष्काशन हो जाता है | फलत: शरीर में इसकी की कमी हो जाती है |

2 . मूत्रवर्धक के बार – बार प्रयोग करने से भी पोटैशियम की कमी हो जाती है |

3 . लम्बे समय तक डायरिया होने पर ( Prolonged Diarrhoea )

लम्बे काल तक डायरिया होने से पोटैशियम का निष्कासन मल से हो जाता  है | फलत:  शरीर में इसकी की कमी हो जाती है |

4 . बार – बार उल्टी होने  से 

बार – बार उल्टी होने से अमाशय से पाचक रसों का निष्काशन हो जाता है | फलत: शरीर में Potassium लवण की कमी हो जाती है |

5 . डायबिटिक कोमा में 

डायबिटिक कोमा का इलाज इन्सुलिन हार्मोन से किया जाता है जिस कारण से शरीर से पोटैशियम बाहर निकल जाता है |

अन्य स्वास्थ्य से सम्बन्धी जानकारियों के लिए आप हमारे ” Facebook Page – स्वदेशी उपचार ” को Like करले , ताकि आप तक हमारी सभी नयी अपडेट पंहुचती रहे  | फेसबुक पेज का  विजेट बॉक्स इसी पोस्ट के निचे स्क्रोल करने से  मिल जावेगा |

धन्यवाद |

credit – डॉ बृंदा सिंह |

Content Protection by DMCA.com
Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Shopping cart

0

No products in the cart.

+918000733602

असली आयुर्वेद की जानकारियां पायें घर बैठे सीधे अपने मोबाइल में ! अभी Sign Up करें

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

स्वदेशी उपचार will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.