घर पर बनाये ये आयुर्वेदिक फेसपैक और पाए चमकती त्वचा | multani mitti face pack for fairness

multani mitti face pack for fairness

आज के युग में हर कोई आकर्षक और चमकती त्वचा चाहता है | लेकिन आज के युवा गलत खान – पान और रक्त की अशुद्धि के कारण पिम्पल्स , काले घेरे , ब्लैक हेड्स , मुंहासो आदि चहरे की समस्याओ से ग्रषित है | आयुर्वेद के अनुसार रक्त की अशुद्धि के कारण चहरे की इन समस्याओ से युवा पीड़ित होते है | गलत खान – पान और बदलती जीवन शैली के कारण भोजन में उपस्थित अशुद्धियाँ रक्त में मिल जाती है और इन्ही रक्त में मिली अशुद्धियों के कारण त्वचा की ये समस्याएँ होती है |

make an ayurvedic facepack

आयुर्वेद में बहुत सी औषधियां है जिनसे आप चहरे की चमकदार और साफ़ सुथरी त्वचा प्राप्त कर सकते है | आज हम आपको एसे ही आयुर्वेदिक द्रव्यों के बारे में बताएँगे जो त्वचा रोगों में बेहतर परिणाम देते है और त्वचा को चमकदार और निरोगी बनाते है |

आयुर्वेदिक फेसपैक बनाने के लिए उपयोगी औषधियाँ

multani mitti face pack for fairness

1. मंजिष्ठा 

आयुर्वेद में मंजिष्ठा एक बहुत प्रतिष्ठित त्वचा रोगों की रामबाण औषधि है | इसका उपयोग चहरे के दाग धब्बे , दाद , खुजली , मुंहासो आदि में किया जाता है | मंजिष्ठा चहरे को चमकदार और मुलायम बनाता है | मंजीठ एक बेहतरीन डितोक्सीफायर है जो चहरे की खुजली, काले धब्बो , मुंहासो और झुरीयों से निजात दिलाता है |

2. रक्तचंदन 

रक्तचंदन भी चहरे की समस्याओं के लिए अच्छी औषधि है | आभ्यंतर प्रयोग में चन्दन शीत (ठंडी) प्रकृति का होता है , जिसके इस्तेमाल से चहरे की त्वचा को ठंडक मिलती है | प्रदुषण के कारण भी चहरे की समस्याए बढती है | रक्तचंदन का प्रयोग करने से प्रदुषण के कारण होने वाले त्वचा विकारो से छुटकारा मिलता है क्योकि यह पर्यावरण प्रदुषण के प्रभाव को कम करता है |

3. हरिद्रा 

हरिद्रा में एंटी एलर्जिक गुण विध्यमान होते है जो त्वचा को एलर्जी से बचाते है | हरिद्रा अच्छा रक्तशोधक होता है , रक्त की अशुद्धि से होने वाले रोगों में इसका उपयोग किया जा सकता है | हरिद्रा के इस्तेमाल से चहरे की झुर्रियां और डार्क सर्कल से छुटकारा मिलता है |

4. लोध्र 

आयुर्वेद में लोध्र की छाल का इस्तेमाल औषध रूप में किया जाता है | यह औषधि बलवर्धक होती है | लोध्र का इस्तेमाल बाह्य और अभ्यंतर दोनों रूपों में किया जाता है | बाह्य प्रयोग में वर्णरोपक , रक्तस्तंभक और शोथहर है | इसके इस्तेमाल से त्वचा के काले घेरे, झुरियां , और त्वचा का ढीलापन दूर होता है |

5. मुल्तानी मिटटी multani mitti face pack for fairness

मुल्तानी मिटटी के बारे में सभी को पता है | इसका इस्तेमाल सभी ने कभी न कभी किया होगा |मुल्तानी मिटटी चेहरे की मृत कोशिकाओं को मिटाती है | यह स्वाभाव में ठंडी होने के कारण झुरियों और ब्लैक हेड्स में आराम देती है | त्वचा की गंदगी और मृत सेल्स को हटाने में मुल्तानी मिटटी अच्छा परिणाम देती है |

कैसे करे फेसपैक  तैयार ? multani mitti face pack for fairness

मंजिष्ठा , रक्त चन्दन , लोध्र , मुल्तानी और हरिद्रा – इन सभी का चूर्ण प्रत्येक 20 ग्राम लेकर अच्छी तरह मिला ले | प्राप्त 100 ग्राम पाउडर में से 20 ग्राम पाउडर लेकर इसमें गुलाब जल और थोडा सा निम्बू का रस  मिलाले | इस पेस्ट का चहरे पर लेप करे , जब लेप सुख जावे तो गुनगुने पानी से चहरे को धो ले | नियमित प्रयोग से चहरे की त्वचा की सभी समस्याओं में लाभ मिलेगा |

धन्यवाद |

Related Post

चोपचीनी / Chobchini – परिचय , गुण , प्रभाव ए... चोपचीनी / Chobchini (Smilax China) परिचय - चोपचीनी के बारे में प्राय सभी जानते है | भारतीय घरों में इसे मसाले के रूप में एवं आयुर्वेद में इसे औषध...
Vanari Vati / वानरी वटी – Vanari Gutika Uses... vanari vati या वानरी गुटिका एक हर्बल योग है जिसे कौंच के बीज से बनाया जाता है | कौंच की फलियों पर बन्दर के शरीर पर होने वाले बालो की तरह रोएँ होते है ...
त्रिफला चूर्ण – बनाने की विधि और सेवन के फाय... त्रिफला चूर्ण  हम जो कुछ खाते - पिते है , उसका प्रभाव हमारे मन , शरीर और आचार - विचार पर पड़ता है | इसलिए प्रकृति ने हमारे शरीर के लिए कुछ ...
ब्राह्मी चूर्ण – निर्माण विधि और सेवन के फाय... ⇐ ब्राह्मी चूर्ण ⇒ ब्राह्मी (Bacapa monnieri) एक औषधिये पौधा है | जो मुख्या रूप से हमारे भारत में उपजाऊ मैदानों में उगता है | यह जमीन पर फ़ैल कर ही ...
Content Protection by DMCA.com