churn, desi nuskhe, Uncategorized

पुदीने के औषधीय गुण और स्वास्थ्य लाभ (फायदे)

पुदीने के औषधीय गुण एंव स्वास्थ्य लाभ (फायदे)

पुदीने के फायदों से हर कोई परिचित है | गर्मियों में पुदीना बेहद उपयोगी है , कोई ठंडा पेय निर्माण करना हो या किसी चटनी को जाय्केदार्र बनानी हो तो सभी घरो में पुदीने का इस्तेमाल किया जाता है | सम्पूर्ण भारत में इसे उगाया जाता है | शहरो में भी पुदीना उपयोग के लिए उगाते है क्योकि यह कम जगह घेरता है और एक छोटे से गमले में भी बहुत अच्छी तरह पनपता है |
वस्तुत: पुदीना मेंथा वंस से सम्बंधित  एक बारहमासी घास है जिसका उत्पति स्थान भूमध्यसागरीय बेसिन है | इसकी उपयोगिता और खुशबू के कारण इसे अन्य देशो में भी उगाया जाने लगा | पुदीने में सुगन्धित मेंथोल का इस्तेमाल – दवाइयों ,  सौंदर्य प्रसाधनों, कालफेक्शनरी, पेय पदार्थो, सिगरेट, पान मसाला आदि में खुशबू हेतु किया जाता है।
pudine ke labh
आयुर्वेदिक गुण  के लिहाज से पुदीने को देखा जाए तो यह स्वाद में कटु , इसका वीर्य उष्ण और विपाक में कषाय होता है | यह वातहर ,दीपन, पाचक, रोचक, कफनाशक,वातनाशक,और कृमिनाशक होता है | आज की इस पोस्ट में हम पोदीने के औषधीय उपयोगो के बारे में बताएँगे |

पुदीने के फायदे एवं स्वास्थ्य लाभ

गर्मियों शीतलता देता है पुदीना

गर्मियों में हैजे की शिकायत न हो या लू न लगे इसके लिए आप पुदीने की सिकंजी बना कर इस्तेमाल करे | शिकंजी बनाने के लिए एक मुट्ठी भर पुदीने की पतियाँ ले और इन्हें शिला पर पिस ले और इनका रस निकल ले इस रस को एक गिलास ठन्डे पानी में मिलादे और ऊपर से चीनी और सेंधा नमक डालकर इसे अच्छी तरह घोल ले | जायके के लिए इसमें आप निम्बू भी डाल सकते है | इसका इस्तेमाल करने से आप को गर्मियों में होने वाले उपद्रवो जैसे लू लगना, हैजा , जी मचलाना, उलटी-दस्त और सिरदर्द से राहत मिलती है |

पेटदर्द और भूख न लगने में पुदीने के फायदे

अगर आपको गर्मी के कारन पेटदर्द होता हो या खाने में अरुचि हो तो पुदीने की ताजी पतियों का रस निकाल ले और इसमें भुना हुआ जीरा , हिंग और सेंधा नमक डालकर इस्तेमाल करे पेटदर्द में तुरंत रहत मिलेगी और भूख भी अच्छी तरह से लगेगी |

जहर नाशक गुण

तैतया या बिच्छु के काटने पर , उसके दंस वाले स्थान पर पुदीने का रस लगावे | यह जहर को खिंच लेगा और दर्द से रहत दिलाएगा |

बुखार में पुदीने के फायदे

बुखार या बुखार से आयी हुई कमजोरी में पुदीने की सुखी पतियों को पानी में उबाल कर इसमें चीनी मिला कर चाय की तरह इस्तेमाल करे – आराम मिलेगा |

मुंहासों में पुदीने के फायदे

चहरे पर मुंहासे हो गए हो तो पुदीने के रस में निम्बू की दो चार बुँदे मिलाकर , इस पेस्ट को चहरे पर आधा – एक घंटा लगावे | 15 दिन के प्रयोग से मुंहासे जड़ से ख़त्म हो जायेंगे |

मुँह की बदबू दूर करता है पुदीना

मुंह की दुर्गंद से परेशान है तो पुदीने की पतियों को छाँव में सुखा ले | सुखी हुई पतियों का चूर्ण बना ले और इस चूर्ण से दांतों की सफाई करे इससे मुंह की दुर्गंद भी चली जावेगी और मसूड़े भी स्वस्थ होंगे |

गैस की समस्या में पुदीने के फायदे

पेट की गैस से परेशान है तो पुदीने के एक चम्मच रस को एक कप गरम पानी में डालकर प्रयोग में ले गैस के कारण होने वाली परेशानियों से राहत मिलेगी |

अतिसार एवं नाक बंद में फायदे

नाक बंद की समस्या में पुदीने की पतियों के सूंघने से आराम मिलता है | पुदीने की पतियों के रस को शहद के साथ चाटने पर अतिसार में आराम मिलता है |

श्वरभेद में पुदीने का उपयोग

गला अगर बैठ गया हो या गले में खीच खीच हो तो पुदीने की 15-20  पतियों को एक गिलास पानी में डालकर इसका काढ़ा बना ले | इसका इस्तेमाल करने से गला खुल जावेगा और गले की खरास भी चली जावेगी |
 
धन्यवाद |

About स्वदेशी उपचार

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.