घुमना हर किसी को पसंद है | लेकिन बहुत से ऐसे लोग है जिन्हें सफ़र के दौरान जी घबराने और मितली आने की शिकायत होती है , जिसे आम भाषा में मितली आना और अंग्रजी में मोशन सिकनेस या ट्रेवल सिकनेस कहते है | जो लोग समुद्री जहाजो में सफ़र करते है उनको भी मोशन सिकनेस से गुजरना पड़ता है |
वस्तुतः जब हम हम सफ़र में होते है तो हमारा शरीर गति कर रहा होता है दिमाग तक यह संकेत आँखों के द्वारा पहुंचता है कान और त्वचा भी दिमाग को यह संकेत देने में पूरा सहयोग करती है की हमारा शरीर गति में है | जब सफ़र के दौरान अधिक धचके लगने या बाहर की तरफ अधिक देखने से हमारे नर्वस सिस्टम ये संकेत नही पहुँचते है तो हमें चक्कर आना और जी घबराने की शिकायत होती है एवं फलस्वरूप उलटी हो जाती है |

Motion Sickness के स्वदेशी उपचार 

सबसे पहले मोशन सिकनेस से बचने के लिए अपने आप को यह दिलासा दे की यह कोई बीमारी नहीं है और आप को यह नही होगी चाहे कैसे भी सफ़र में हो | अगर आप ये मानले और अपना मन कंही और लागा ले तो 90% इससे बच सकते है | क्योकि मोशन सिकनेस 90% मानसिक होता है अगर आप मन को दिलासा देने में कामयाब रहे तो मोशन सिकनेस की समस्या नहीं होगी |

अगर आप बस या कर में सफ़र कर रहे है तो आगे की सीट पर बैठे और अपना ध्यान भी आगे की तरफ रखे क्योकि साइड की खिड़की से देखने पर आपको सब कुछ चलता हुआ दिखाई देता है और आप के दिमाग का कंट्रोल खो जाता है और उल्टी आने या जी घबराने की शिकायत होने लगती है |

अगर आप समुद्री जहाज में सफ़र कर रहे है तो जहाज जब हिचकोले ले तो आप क्षितिज को देखे और स्थिर धरातल पे अपनी निगाहे बनाई रखे या फिर आँखे बंद  रखे, सब भूल जावे और सोने की कोशिश करे , सोते समय अपनी आँख, कान और नाक को बंद रखे अर्थात न तो जहाज की आवाज सुने – न ही कोई गंद ले और नहीं किसी चलती हुई वास्तु को देखे | निश्चित ही आपको ये शिकायत नहीं होगी |

सफ़र में जाते समय हमेशा अपने साथ अदरक का टुकड़ा या पोदीने की गोली रखे | क्योकि अदरक और पोदीना जी घबराने की शिकायत और उल्टी को रोकता है | अत: जब भी सफ़र में जी घबरावे तो अदरक के  छोटे से टुकड़े या पुदीने की गोली को चूसने से आराम मिलता है |

हमेशा कुछ खा कर घर से निकले क्योकि भूखे पेट मोशन सिकनेस ज्यादा होती है | ध्यान दे अधिक भरी खाना खाने से भी मोशन सिकनेस हो सकता है | अत: हल्का नास्ता कर के सफ़र में जावे |

सफ़र के दौरान निम्बू हमेशा अपने साथ रखे | क्योकि निम्बू में सिट्रिक एसिड होता है जो ट्रेवल सिकनेस से होने वाली उलटी और जी घबराने को रोकता है | निम्बू की सुगंद भी बहुत कारगर होती है , सफ़र के दौरान निम्बू को सूंघते रहे | निश्चित ही पूरा सफ़र आराम से निकल जावेगा |

आयुर्वेदिक खट्टी – मीठी गोलिया अपने साथ रखे जैसे अनारदाना की  गोली , आमपाचक या हाजमोला | इन्हें चूसते रहे आपको आराम मिलेगा |

अगर बहुत जी घबराने से उलटी की तीव्र इच्छा हो रही है तो एक बार उलटी हो जाने दे | उल्टी होने के बाद अच्छी तरह मुंह धोकर कोई मीठी सुपारी या टॉफ़ी खाले | मन हल्का हो जावेगा और आप फ्रेश महसूस करेंगे |


Motion sickness home remedies
travel sickness home remedies
motion sickness ke gharelu upay
desi nuskhe motion sickness

Content Protection by DMCA.com
Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Shopping cart

0

No products in the cart.