नागकेशर के स्वास्थ्य लाभ

नागकेशर एक सदाबहार वृक्ष है जो अधिकतर भारत में असम और बर्मा , बांग्लादेश ,श्रीलंका आदि देशो में बहुतायत से पाया जाता है | नागकेशर की पतिया पतली और घनी होती है इसलिए यह घने छायादार वृक्ष होता है | इसकी शाखाए और तना इतना कठोर होता है की इसे काटने वाले की कुल्हाड़ी मुद जाती है इसलिए इसे वज्रकाठ भी कहते है | नागकेशर के सूखे फुल औषध काम और रंग बनाने के काम आता है | नागकेशर के बीजो में गाढ़ा तेल निकलता है जिसे औषध उपयोग और दिया जलने के काम में लिया जाता है | भारत में इसके तेल को वात रोगों में मला जाता है |

पत्र – डेढ़ इंच चौड़े नुकीले 2″ से 6″ तक लम्बे झुके हुए रहते है |

पुष्प – वसंत ऋतू में सफ़ेद या नारंगी रंग के 2″ से 4″ की परिधि में गोल लगते है | सफ़ेद पुष्प वाले वृक्ष अधिक मिलते है | नारंगी रंग के फूलो वाले वृक्ष कम मिलते है | इन्ही नारंगी रंग के फूलो की केशर को नागकेशर कहते है |

रासायनिक संगठन –  हलके पीले रंग का तेल निकलता है ‘

गुणधर्म 

रस – कसाय
गुण – रुक्ष , लघु , उष्ण , आमपचन , रक्त्स्कंदन |
वीर्य – उष्ण
विपाक – कटु

दोष प्रभाव – पित कफ शामक |

रोग प्रभाव – ज्वर , छर्दी , हल्लास , अतिस्वेद , कंडू , रक्तस्राव , रक्तप्रदर , रक्तार्श |

उपयोग मात्रा – 1 से 2 ग्राम

औषधि प्रयोग अंग – फल एवं पुष्प |

आयुर्वेदिक विशिष्ट योग – नाग्केशरादी योग , नागकेशर चूर्ण , पुष्यानुग चूर्ण |

नागकेशर के स्वास्थ्य लाभ 

खांसी – खांसी होने पर नागकेशर की जड़ और छाल का काढ़ा बना कर पिने से खांसी जल्दी ही ठीक हो जाती है |

चर्म रोग – नागकेशर से निकलने वाले तेल को अगर चर्म रोग से प्रभावित स्थान पर लगाया जावे तो आराम मिलता है |

वातरोग / गठिया रोग – वात रोगों में एवं गठिया रोग में नागकेशर के तेल से मालिश करने से गठिया रोग से होने वाले दर्द एवं इसके उपचार में सहायता मिलती है |

खुनी बवासीर – खुनी बवासीर में नाग केशर को रात के समय पानी में भिगो दे सुबह इसे छान कर और शहद मिलकर सेवन करे खुनी बवासीर में तुरंत लाभ होगा |

रक्त प्रदर – रक्तप्रदर में नागकेशर चूर्ण का सेवन करने से जल्दी यह रोग ठीक हो जाता है |

धन्यवाद 

Related Post

सौंफ के फायदे – गर्मियों में कीजिये सौंफ का ... सौंफ / Fennel  सौंफ से हर कोई परिचित है , इसका उपयोग सभी घरो में औषधीय एवं मसाले के रूप में किया जाता है | भारत में सर्वत्र ...
मकोय : परिचय एवं चमत्कारिक स्वास्थ्य लाभ... मकोय का परिचय लगभग सम्पूर्ण भारत में पायी जाने वाली वनस्पति है जो अधिकतर आद्र और छायादार जगहों पर उगती है, इसके पौधे की अधिकतम लम्बाई 2 से 2.5 फीट ...
मालिश के स्वास्थ्य लाभ / Health Benefits Of Massag... मालिश के फायदेHealth Benefits of Massage आयुर्वेद में मालिश को अभ्यंग कहा जाता है | आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति में प्राचीन समय से ही अभ्यंग क...
शिवलिंगी बीज के औषधीय गुण एवं उपयोग – पुत्र ... शिवलिंगी बीज  परिचय - शिवलिंगी बरसात में पैदा होने वाली एक लता है | जो समस्त भारत वर्ष में बाग़ - बगीचों में देखि जा सकती है | यह चमकीली एवं चिकनी बेल...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.