Mail : treatayurveda@gmail.com

लक्षादी चूर्ण

लक्षादी चूर्ण बनाने की विधि – सबसे पहले नील कमल के फूलो को लेकर इनको सुखा ले | अब नील कमल के सूखे फुलों के साथ – मुलहठी, भुनी हुई हल्दी , लाख और मंजिष्ठा को लेकर इन सभी का महीन चूर्ण बना ले | ध्यान दे इन सभी की मात्रा समान होनी चाहिए |
मात्रा – सुबह – शाम 1 – 1 चम्मच चूर्ण को गरम पानी के साथ ले |
 
लाभ – लक्षादी चूर्ण के लगातार 5 – 7 दिनों तक सेवन करने से खुनी एवं बादी बवासीर में बहुत लाभ मिलता है |

Content Protection by DMCA.com
Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Shopping cart

0

No products in the cart.

+918000733602