churn, Uncategorized, जड़ी - बूटियां

वातहर चूर्ण बनाने की विधि

वात – हर चूर्ण 

विधि – अजमोदा , देवदारु , वाय-बिडंग , सेंधा नमक, पिपरामुल , पीपल , सौंफ और कालीमिर्च सभी 10-10 ग्राम एवं बड़ी हरेड, सोंठ और विधारा 50-50 की मात्रा में लेकर – इन सभी का महीन पीसकर चूर्ण बना ले | वातहर चूर्ण तैयार है |
मात्रा – वातहर चूर्ण 3-3-3 ग्राम की मात्रा में सुबह – दोपहर – शाम को लीजिये |
लाभ – यह शरीर में स्थित वात दोष को सम स्थिति में लाती है जिससे वात के कारण होने वाले दर्द से छुटकारा मिलता है |

About स्वदेशी उपचार

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.