अग्निवर्द्धक चूर्ण बनाने की विधि

अग्निवर्द्धक चूर्ण 

विधि – पीसी हुई सोंठ 50 ग्राम , सेंधा नमक 150 ग्राम , काला नमक – 50 ग्राम , निम्बू का सत – 50 ग्राम , भुना हुआ जीरा – 100 ग्राम और पिपरमेंट – 2 ग्राम — इन सभी को पीसकर महीन चूर्ण बना ले | आपका भूख बढ़ाने वाला चूर्ण तैयार है |
मात्रा – भोजन करने के बाद 1/2 ग्राम की मात्रा में ले |

लाभ – अगर किसी की भूख मर गई हो तो उसे यह चूर्ण भोजन के उपरांत जरुर दे | क्योकि इससे भोजन बहुत अच्छी तरह पकता है और भूख बढाती है | इसके अलावा अगर किसी को भोजन करने के बाद आफारे की सिकायत हो तो उनके लिए भी यह चूर्ण रामबाण साबित होता है | पेट से सम्बंधित रोगों में यह चूर्ण काफी असरदार है |

Related Post

भिलावा / Semecarpus Anacardiumlinn – परिचय, ... भिलावा (भल्लातक) / Markingnut in Hindi परिचय - भिलावा आयुर्वेद में इसकी गणना क्षोभक विषों में की गई है | यह अति विषैला औषधीय फल है अत: इसका प्रयोग आय...
शरपूंखा (प्लीहा शत्रु ) – सामान्य पारिचय एवं... शरपूंखा / Tephrosia purpurea pers शरपुन्खा सर्वत्र भारत में पाया जाता है | यह मटर के प्रजाति का पौधा है जो क्षुप रूप में 1 से 3 फुट तक ऊँचा ह...
अमरबेल का तेल – गंजेपन, रुसी और बालों की सभी... अमरबेल का तेल  आज कल बालों का ख्याल रखना बहुत जरुरी हो गया है | युवकों एवं युवतियों में कम उम्र से ही बालों का झड़ना , बालों में रुसी होना , बालों का ...
गेंहू के जवारे : कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी को ठीक ... गेंहू के बिज को जब मिटटी में बोया जाता है तो कुछ दिनों में जो छोटी - छोटी घास निकलती है वही गेंहू के ज्वारे कहलाते है अर्थात गेंहू के अंकुरित बिज ही...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.