desi nuskhe, Uncategorized, जड़ी - बूटियां

जाने कैसे बनता है आंवला तेल – आंवला तेल बनाने की विधि

भारतीय बाजार में बालो को काला और घना रखने के लिए बहुत सी देशी और विदेशी कंपनियां अपना प्रोडक्ट आंवला तेल के नाम से बाजार में बेचती है वस्तुत: इन तेलों में आंवला हो इस बात की कोई गारंटी नहीं है इसके विपरीत अन्य बहुत से हानिकारक तत्व इनमे मौजूद होते है जो हमारी त्वचा और बालो दोनों के लिए ही खतरनाक साबित हो सकते है | आप किसी भी आंवला तेल की बोतल पर उनके इन्ग्रिदेंट्स पढ़ेंगे तो चौंक जायेंगे क्योकि इनमे मुख्या रूप से मिनरल आयल की प्रधानता होती है जो हमारी त्वचा और बालो दोनों के लिए हानिकारक होते है |

आज की इस पोस्ट में हम आपको आंवला तेल बनाने की विधि के बारे में बताएँगे ताकि आप भ्रमित करने वाले विज्ञापनों से बच सके और अपने बालो को प्राक्रतिक रूप से घने, काले और स्वस्थ रख सके |

विधि 

आंवला तेल बनाने की दो विधि है |


1. हरे आंवलो से 


2. सूखे आंवलो से 

हरे आंवलो से आंवला तेल बनाने की विधि 

कच्चे और हरे आंवलो को अच्छी तरह साफ करके इनका 500 ग्राम रस निकाल ले | अब 500 ग्राम की ही सामान मात्रा में काले तील का तेल या नारियल का तेल ले | लोहे की साफ़ कडाही में तेल और आंवले के रस को डाल कर मिला दे इसके बाद कडाही में धीमी धीमी आंच दे | जब तेल में से आंवले के रस का पूरा पानी उड़ जावे अर्थात तेल से पानी जलने कि सनसनाहट रुक जावे तब इसे ठंडा करके निचे उतार ले | इस तेल को किसी साफ सूती कपडे से छान कर बोटल में भर ले | आपका आंवला तेल तैयार है | इस तेल को दैनिक प्रयोग में लेने से आपके बालो की समस्या जैसे – सफ़ेद होना , झड़ना और रुसी मिट जावेगी एवं बाल काले , घने और लम्बे बनेंगे |

सूखे आंवलो से 

इस विधि में सूखे आंवलो से आंवले का तेल बनाया जाता है | सबसे पहले किसी पंसारी की दुकान से सूखे आंवले ले आवे या आप घर पर भी आंवलो को सुखा कर इसमें से गुठली निकल कर उपयोग में ले सकते है |
150 ग्राम सूखे आंवले को दरदरा कूट कर क्वाथ रूपी कर ले | अब इन दरदरे आंवलो को 600 ml पानी में 24 घंटे के लिये भिगो दे | 24 घंटे पश्चात इनको पानी सहित ही गरम करने के लिए रखे | जब पानी आधा रह जावे अर्थात 300 ml रह जावे तब इसे आंच से निचे उतर कर ठंडा कर ले | अब इस पानी में उपस्थित आंवलो को अच्छी तरह मसल कर छान ले | कडाही में 500 ml तील तेल या नारियल तेल में इस काढ़े को मिला कर गरम करे | जब तेल में से सारा पानी उड़ जावे तब इसे ठंडा कर के छान ले | आंवला तेल तैयार है |

इस तेल का उपयोग आप नित्य कर सकते है | बाल धोने के बाद अच्छी तरह सुखा के अंगुलियों के पोरों से हलकी – हलकी मस्साज करे | बाल झाड़ना और सफ़ेद होना बंद हो जावेगे |

धन्यवाद 

About स्वदेशी उपचार

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.