आयुर्वेद की महौषधि – मकरध्वज वटी | इसके जैसी चमत्कारिक यौन वर्द्धक औषधि कोई नहीं !

मकरध्वज वटी

मकर ध्वज वटी को आयुर्वेद में महा औषधि माना जाता है क्यों की यह सर्व रोग नाशिनी औषधि है | वैसे तो मकरध्वज वटी सभी रोगों में लाभकारी है किन्तु यौन कमजोरी में यह एक अमृत औषधि के समान काम करती है | वर्तमान समय में युवाओ के गलत आचरणों की वजह से भरी जवानी में ही बुढ़ापे के लक्ष्ण दिखाई देने लगते है | उनकी यौन शक्ति क्षीण हो जाती है और वे नए नए उपाय खोजते रहते है जिससे उनको स्वास्थ्य लाभ कम हानि अधिक हो जाती है | अगर आप भी यौन वर्धक दवाइयां ले ले कर थक चुके है तो आपको भी इस मकरध्वज वटी का सेवन किसी वैद्य के निर्देशन में शुरू कर देना चाहिए |

मकरध्वज वटी बनाने की विधि

मकरध्वज     – 10 ग्राम
कपूर            – 10 ग्राम
कालीमिर्च     – 10 ग्राम
जायफल       – 10 ग्राम
शुद्ध कस्तूरी   – 3 ग्राम

सबसे पहले मकरध्वज को खरल में डाल कर खूब घुटाई करे | अब कालीमिर्च और जायफल का महीन चूर्ण बना ले | जायफल और कालीमिर्च का चूर्ण तथा कपूर , कस्तूरी इन सब को मकरध्वज के साथ डाल कर खूब मर्दन करे | मर्दन करते समय खरल में थोड़े पानी का छिडकाव भी करते रहे | जिससे की इन सब की एक लुगदी बन जावे | जब यह मिश्रण कुछ गाढ़ा हो जावे तब इसकी 2 -2 रति की गोलियां बना ले |

सेवन विधि – 1 – 1 गोली का सेवन सुबह शाम मिश्री मिले दूध या मक्खन के साथ मिश्री मिला कर सेवन करे |

औषधि लाभ

इस योग के सेवन से ह्रदय , मष्तिष्क , वातवाहिनी एवं शुक्र वाहिनी नाडीयों पर विशेष प्रभाव पड़ता है और इन्हें शक्ति मिलती है | यह योग मानसिक और शारीरिक नापुसकता को दूर कर प्रयाप्त शक्ति प्रदान करता है

  • इसके सेवन से स्मरण शक्ति , स्तंभन शक्ति , विर्यबल और ओज की वर्द्धि होती है |
  • समस्त प्रकार के धातुविकार, विर्यनाश से उत्पन्न हुई लिंग की स्थिलता और नापुसकता को दूर कर , शीघ्रपतन , वीर्य का पतलापान और मधुमेह आदि व्याधियो को नष्ट करता है |
  • इस योग का उपयोग विवाहित और अविवाहित दोनों कर सकते है |

* योग का सेवन करते समय पथ्य और अपथ्य का अनुसरण जरुर करे |

 

धन्यवाद

Related Post

भिलावा / Semecarpus Anacardiumlinn – परिचय, ... भिलावा (भल्लातक) / Markingnut in Hindi परिचय - भिलावा आयुर्वेद में इसकी गणना क्षोभक विषों में की गई है | यह अति विषैला औषधीय फल है अत: इसका प्रयोग आय...
चन्दनासव / Chandanasav – फायदे, रोगोपयोग एवं... चन्दनासव / Chandanasav - यह उत्तम शीतल गुणों से युक्त होती है | पेशाब में धातु जाना, पेशाब में जलन, पेशाब में इन्फेक्शन एवं महिलाओं के श्वेत प्रदर जैस...
नागरमोथा / Nagarmotha – नागरमोथा के फायदे... नागरमोथा /  Cyperus Scariousus परिचय नागरमोथा के क्षुप प्राय भारत के सभी राज्यों में पाए जाते है | ये अधिक पानी वाली जगहों पर आसानी से देखने क...
जिसे आप खरपतवार समझते है वो है गुणों की खान –... पुनर्नवा के लाभ  जल्दी ही बरसात का मौसम आने वाला है | इस मौसम में कई आयुर्वेदिक औषधियां फिर से अपना विकास करेंगी जिसमे से एक है - पुनर्नवा |...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.