आँखों से चस्मा हटाने का आयुर्वेदिक उपचार – इसे अपनी डायरी में लिख ले काम आएगा |

नेत्र ज्योतिवर्धक 

आँखे हमारी अमूल्य सहयोगी है | इसके बैगर सारा संसार अंधकारमय हो जाता है | इसलिए आँखों को स्वस्थ बनाये रखने के लिए हमें उपाय करते रहना चाहिए | अगर आपकी आँखे सही है तो भी आपको आँखों का बेहतरीन ख्याल रखना चाहिए क्योकि हमारी छोटी-छोटी गलतिया हमें द्रश्तिबधित या नेत्रों की ज्योति को कम कर सकती है | आँखे कुछ विशेष कारणों से कमजोर पड़ जाती है जैसे – अधिक देर तक पढना , महीन अक्षरों को ज्यादा देर तक पढना , कंप्यूटर पर पुरे दिन काम करते रहना , केमिकल युक्त डाई बालो पर लगाने से आदि | 
https://www.swadeshiupchar.in/2017/02/blog-post_16.html
आज की इस post में हम आपको बताने जा रहे है कुछ बेहतरीन आयुर्वेदिक नुस्खे जिनसे आप अपनी आँखों की खोई हुई ज्योति फिर से प्राप्त कर सकते है |
आँखों की रोशनी बढ़ाने वाले आहार की तालिका –
आहार
की सूचि
       फल
सब्जियां
मेवा
केला –
संतरा
सेब –  चीकू
चकोतरा –
अंगूर
पपीता –
बेल
खरबूजा –
आम
अमरुद –
खुबानी
पलक –
कुलफा
चौलाई –
मेथी
मुली –
धनिया
सल्जम –
गाजर
टमाटर –
करेला
बैंगन –
पत्तागोभी
अखरोट
काजू
बादाम
सफ़ेद
इलाइची
खजूर
छुहारे

आयुर्वेदिक उपचार 

  • बादाम की गिरी – सौंफ – कुजा मिश्री तीनो को बराबर की मात्रा में लेकर महीन पिस ले और चूर्ण बना ले | अब इस चूर्ण को रोज रात को सोते समय 10 ग्राम की मात्रा में एक गिलास दूध के साथ ले | डेढ़ महीने तक लगातार सेवन करने से आपकी द्रष्टि इतनी तेज हो जाएगी की आपको चश्मे की आवश्यकता नहीं पड़ेगी | इसके अलावा इस चूर्ण के सेवन से दिमग भी बहुत तेज हो जावेगा तो जिनको जल्दी भूलने की बीमारी है उनको भी इससे लाभ मिलेगा | आजकल कुजा मिश्री कम ही मिलती है तो आप साधारण मिश्री से भी काम चला सकते है |

विशेष :- बच्चो को इसकी आधी मात्रा देवे |

  • त्रिफला भी आँखों के लिए अमृत समान फायदे मंद होती है | स्रव्प्रथम आंवला – हरेड – बहेड़ा इन तीनो को समान मात्रा में लेकर इनको बारीक़ पिस कर क्घुर्ण बना ले | इस प्रकार से आपका त्रिफला चूर्ण का निर्माण हो जावेगा | अब इस चूर्ण में से 10 ग्राम चूर्ण रोज रात को मिटटी की छोटी हांड़ी में साफ़ पानी के साथ भिगो दे | सुबह अच्छी तरह मसल कर पानी को छान ले | अब इस पानी से नेत्रों पर छींटे मार – मार कर धोये | त्रिफला के पानी से आँखों को धोने से नेत्र ज्योति तेज होगी एवं इसके प्रयोग से अन्य आँखों के रोग भी जाते रहते है |
  • पैर के तलवो में सरसों के तेल से रोजाना मालिश करे | रोजाना मालिश करने से नेत्र ज्योति बढती है |
  • रोज गाजर का ज्यूस निकल कर इसका सेवन करे इससे भी आँखों की खोयी हुई शक्ति वापिस आ जाती है |
  • हरी पतेदार सब्जियों का प्रयोग करना शुरू कर दे |
अगर आप इन बताये गये नुस्खो में से किसी भी एक को लगातार प्रयोग में लाते है तो यकीं मानिये आपकी आँखों पर चढ़ा हुआ चस्मा निश्चित ही उतर जावेगा | इनके साथ अगर आप ऊपर दी गयी सारणी के अनुसार फलो – मेवो और सब्जियों का सेवन भी साथ – साथ करते है तो यह सोने पर सुहागे की तरह काम करेगा |
धन्यवाद 
Team – Swadeshi Upchar

Related Post

सैन्धवादी चूर्ण बनाने की विधि... सैन्धवादी चूर्ण बनाने की विधि विधि - सेंधा नमक, कालीमिर्च और फूली हुई फिटकरी 10-10 ग्राम तथा कपूर व अफीम 2-2 ग्राम | इन सब को कूट पिस कर चूर्ण बना ...
हिंग्वाष्टक चूर्ण के फायदे और इसे बनाने की विधि... हिंग्वाष्टक चूर्ण हिंग्वाष्टक चूर्ण - हमारे लिए आयुर्वेद का एक अमूल्य तोहफा है | हिंग्वाष्टक चूर्ण अजीर्ण , अपच और गैस की समस्या में एक रामबाण...
टॉन्सिल्स (Tonsils in Hindi) – आयुर्वेद के अ... टॉन्सिल्स (Tonsils in Hindi) - आयुर्वेद के अनुसार कारण, लक्षण एवं इलाज जब मुंह में स्थित टॉन्सिल्स में सुजन आ जाता है तो उसे टोंसिलाइटीस कहते है | आय...
शिरोधारा एक प्राकृतिक मैडिटेशन – शिरोधारा स... शिरोधारा / Shirodhara  शिरोधारा मुख्यतया धाराक्रम का एक भाग है, जिसे आयुर्वेद शास्त्रों में शिरोसेक के नाम से भी जाना जाता है | आयुर्वेद च...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.