Category: yoga

अस्थमा के लिए योग 0

अस्थमा रोग से छुटकारे के लिए योग एवं प्राणायामों की सूचि

अस्थमा के लिए योग एवं प्राणायाम  अस्थमा की समस्या आज दिन प्रतिदिन बढती जा रही है | शहर हो या गाँव आज सब जगह इस रोग से पीड़ितों की संख्या में आये दिन इजाफा...

सिंहासन योग 0

सिंहासन योग कैसे करते है एवं इसके फायदे या लाभ

सिंहासन योग इस आसन को सिंह के सामान आकृति वाला होने के कारण सिंहासन या अंग्रेजी में “Lion Pose” कहा जाता है | सिंहासन का शाब्दिक अर्थ निकालने पर यह दो शब्दों से मिलकर...

योग 0

योग क्या है – इसका परिचय, परिभाषा, प्रकार, लाभ और शारीरिक प्रभाव |

योग विश्व इतिहास का सबसे पुराना विज्ञानं है , जिसने व्यक्ति के अध्यात्मिक और शारीरिक क्रिया – कलापों के लिए नए द्वार खोले | योग का जन्म कब हुआ ? यह प्रश्न इतना महत्वपूर्ण...

दिमाग तेज कैसे करे 0

दिमाग तेज़ कैसे करें – अपनाये इन योग और प्राणायामों को |

दिमाग तेज़ कैसे करें ? दिमाग तेज़ कैसे करें – वर्तमान समय की दिनचर्या और खान – पान ने लोगों की सेहत पर इतने बुरे असर डालें है की जो आप सोच नहीं सकते...

चंद्रभेदी प्राणायाम 0

चंद्रभेदी प्राणायाम – विधि , लाभ और सावधानियां

चंद्रभेदी प्राणायाम प्राणायाम शारीरिक और मानसिक रूप से मनुष्य स्वास्थ्य प्रदान करता है | इससे पहले आपने प्राणायाम के प्रकारों में सूर्यभेदी प्राणायाम के बारे में पढ़ा | आज की इस पोस्ट में चंद्रभेदी...

ताड़ासन 0

ताड़ासन (Tadasana Yoga) योग – कैसे करे, इसके लाभ और सावधानियां |

ताड़ासन / Tadasana Yoga in Hindi शरीर की लम्बाई बढ़ाने और मांसपेशियों को लचीला बनाने के लिए इस आसन का प्रयोग किया जाता है | ताड़ासन का संधि विच्छेद करने पर यह – ताड़...

भ्रामरी प्राणायाम 0

भ्रामरी प्राणायाम कैसे करे ? – इसकी विधि, लाभ एवं सावधानियां |

भ्रामरी प्राणायाम / Bhramri Pranayama भ्रामरी शब्द भ्रमर से बना है जिसका अर्थ होता है “भौंरा”| भ्रामरी प्राणायाम करते समय साधक भौंरे के समान आवाज करता है , इसलिए इसे भ्रामरी प्राणायाम कहा जाता...

भस्त्रिका प्राणायाम 0

भस्त्रिका प्राणायाम – करने की विधि , लाभ और सावधानियां

भस्त्रिका प्राणायाम / Bhastrika Pranayam in Hindi इस भस्त्रिका का अर्थ होता है “धौंकनी” | जिस प्रकार लुहार की धौंकनी निरंतर तीव्र गति से हवा फेंकती रहती है और लोहा गरम होता रहता है...

शीतली प्राणायाम 0

शीतली प्राणायाम की विधि – लाभ एवं सावधानियां |

शीतली प्राणायाम इस प्राणायाम से शरीर का तापमान कम किया जा सकता है | यहाँ प्रयोग किया गया “शीतली” शब्द का अर्थ होता है – ठंडा करना | अर्थात शीतली प्राणायाम से शरीर की...

सूर्यभेदी प्राणायाम 0

सूर्यभेदी प्राणायाम – इसकी विधि , लाभ एवं सावधानियां |

सूर्यभेदी / सूर्यभेदन  प्राणायाम सुर्यभेदी प्राणायाम की विशेषता होती है की इसमें पूरक क्रिया नाक के दांये छिद्र से की जाती है | नाक के दांये छिद्र को सूर्य स्वर और बांये को चन्द्र...