Category: vaat rog

सूर्यभेदी प्राणायाम 0

सूर्यभेदी प्राणायाम – इसकी विधि , लाभ एवं सावधानियां |

सूर्यभेदी / सूर्यभेदन  प्राणायाम सुर्यभेदी प्राणायाम की विशेषता होती है की इसमें पूरक क्रिया नाक के दांये छिद्र से की जाती है | नाक के दांये छिद्र को सूर्य स्वर और बांये को चन्द्र...

हिचकी रोकने के उपाय 0

हिचकी / Hiccough – हिचकी रोकने के उपाय, कारण व आयुर्वेदिक दवा

हिचकी (हिक्का) रोग / Hiccough – रोकने के उपाय हिक इति कृत्वा कायति शब्दायते इति हिक्का | अर्थात शरीर के द्वारा ( उदान , प्राणवायु, यकृत , प्लीहा और आंतो के द्वारा ) “हिक्क”...

नस्य कर्म और इसके फायदे 0

नस्य कर्म – क्या होता है ? इसकी विधि और फायदे

नस्य कर्म / Nasya Karma ”नासायं भवं नस्यम्“  अर्थात औषधी या औषध सिद्ध स्नेहों को नासामार्ग से दिया जाना नस्य कहलाता है। नस्य का दूसरा अर्थ नासिका के लिए जो हितकर होता है वह...

लहसुन के फायदे 0

लहसुन खाने के 30+ फायदे – अपनाये ये घरेलु नुस्खे

लहसुन के फायदे और इसके घरेलु नुस्खे  भारतीय व्यंजनों में लहसुन का इस्तेमाल चटपटी चीजों का स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है | लेकिन जितना उपयोग लहसुन का खाने का स्वाद बढाने का...

मुर्गासन 0

मुर्गासन / मुर्गा-आसनात्मक क्रिया – विधि , लाभ और सावधानियां |

पहले स्कुलों में विद्यार्थियों को मुर्गा बनाया जाता था और आज भी यह क्रिया बहुत सी स्कुलों मे विद्यार्थियों को दण्ड देने के लिए अपनाई जाती है। जी हाँ यह वही मुर्गा बनने का...

0

गठिया रोग – परहेज एवं उपचार

गठिया – संधिवात  शरीर में स्थित वायु अगर प्रकुपित हो जाती है तो वह कई व्याधियो को जन्म देती है , जिनमे से प्रमुख है – आमवात अर्थात गठिया | गठिया रोग  शरीर के...