Category: swas rog

भस्त्रिका प्राणायाम 0

भस्त्रिका प्राणायाम – करने की विधि , लाभ और सावधानियां

भस्त्रिका प्राणायाम / Bhastrika Pranayam in Hindi इस भस्त्रिका का अर्थ होता है “धौंकनी” | जिस प्रकार लुहार की धौंकनी निरंतर तीव्र गति से हवा फेंकती रहती है और लोहा गरम होता रहता है...

सूर्यभेदी प्राणायाम 0

सूर्यभेदी प्राणायाम – इसकी विधि , लाभ एवं सावधानियां |

सूर्यभेदी / सूर्यभेदन  प्राणायाम सुर्यभेदी प्राणायाम की विशेषता होती है की इसमें पूरक क्रिया नाक के दांये छिद्र से की जाती है | नाक के दांये छिद्र को सूर्य स्वर और बांये को चन्द्र...

asthma in hindi 0

अस्थमा (दमा)/ Asthma in Hindi – इसके कारण , लक्षण , आयुर्वेदिक उपचार |

Asthma in Hindi / अस्थमा अस्थमा एक गंभीर बीमारी है | वर्तमान समय के वातावरण , खान – पान एवं प्रदुषण के कारण इस रोग में काफी इजाफा हुआ है | भारत में प्रतिवर्ष...

मकड़ी के जाले के घरेलु नुस्खे 1

चमत्कार से कम नहीं है – मकड़ी का जाला

मकड़ी के जले से निमोनिया का उपचार  आम घर की समस्या है कि उसमें मकड़ी अपना जाला डाल लेती है। लेकिन कभी आपने सोचा है कि ये मकड़ी का जाला भी हमारे बच्चों के...

0

जिसे आप खरपतवार समझते है वो है गुणों की खान – पुनर्नवा

पुनर्नवा के लाभ  जल्दी ही बरसात का मौसम आने वाला है | इस मौसम में कई आयुर्वेदिक औषधियां फिर से अपना विकास करेंगी जिसमे से एक है – पुनर्नवा | हम अपने अज्ञान के...

0

पीपल के चमत्कारिक लाभ : अपने जीवन में एक पीपल का पेड़ अवश्य लगाए

भारत देश में प्राचीन समय से ही पीपल के पेड़ की पूजा करने का विधान है ऐसा इसलिए नहीं की पीपल के पेड़ पर लोग टोना टोटका करते है बल्कि इसलिए है क्योकि पीपल...

0

जिनको नजले ( जुकाम ) की शिकायत बार – बार रहती है उनको ये नुस्खे अपनी डायरी में लिखलेने चाहिए

नजला ( जुकाम ) दुनिया में एसा कोई इन्सान नहीं है जिसे जुकाम की शिकायत न हुई हो | नजला – जुकाम हमेशा परेशान करने वाला रोग है | ज्यादातर मौसम के बदलते समय...