Category: जड़ी – बूटियां

पिप्पली 0

पिप्पली – परिचय, गुणधर्म, फायदे एवं औषधीय उपयोग |

पिप्पली (Piper Longum) पिप्पली दो प्रकार की होती है | छोटी पिप्पल और बड़ी पिप्पली | हमारे देश में प्राय: छोटी पिप्पल ही पाई जाती है | बड़ी पीपल अधिकतर इंडोनेशिया, मलेशिया, जावा, सुमात्रा...

काकड़ासिंगी 0

काकड़ासिंगी (कर्कटश्रंगी) – परिचय, गुणधर्म एवं उपयोग

काकडासिंगी (कर्कटश्रंगी) / Pistacia integerrima इसका वृक्ष 25 से 30 फीट तक ऊँचा होता है | भारत में पंजाब, पश्चिमी हिमालय, टिहरी गढ़वाल और हिमाचल प्रदेश में पाए जाते है | काकड़ासिंगी की छाल...

0

अमरबेल का तेल – गंजेपन, रुसी और बालों की सभी समस्याओं से छुटकारा

अमरबेल का तेल  आज कल बालों का ख्याल रखना बहुत जरुरी हो गया है | युवकों एवं युवतियों में कम उम्र से ही बालों का झड़ना , बालों में रुसी होना , बालों का...

कटेरी / कंटकारी 0

कटेरी (kateri) / Solanum xanthocarpum – परिचय, गुण और औषध उपयोग |

कटेरी (कंटकारी) / Solanum xanthocarpum कटेरी को कंटकारी, लघुरिन्ग्नी, क्षुद्रा आदि नामो से जाना जाता है | इसका पौधा 3 से 4 फीट ऊँचा होता है इसके सम्पूर्ण क्षुप पर कांटे ही कांटे ही ...

चन्द्रशूर 0

चन्द्रशूर / Garden Cress (Lepidium Sativium) – परिचय एवं औषधीय गुण

चन्द्रशूर (Garden Cress) / Lepidium Sativium in Hindi चन्द्रशूर के औषधीय रबी की फसल है | सम्पूर्ण भारत और तिब्बत में इसकी खेती की जाती है | इसके क्षुप को पशुओं के आहार के...

बला (खरैंटी) 0

बला (खरैटी) / Sida Cordifolia – खरैटी के गुण, उपयोग एवं फायदे |

बला (खरैटी) / Sidda Cordifolia in Hindi परिचय – प्राय: सम्पूर्ण भारत में पायी जाने वाली औषधीय उपयोगी वनस्पति है | इसका झाड़ीनुमा क्षुप होता है जो 2 से 5 फीट तक ऊँचा हो...

दारुहल्दी / Berberis aristata 0

दारूहल्दी औषध परिचय, गुण धर्म और सेवन के फायदे

दारु हल्दी / Berberis aristata दारुहल्दी एक आयुर्वेदिक औषधीय पौधा है | इसे दारुहरिद्रा भी कहा जाता है जिसका अर्थ होता है हल्दी के समान पिली लकड़ी | इसका वृक्ष अधिकतर भारत और नेपाल...

कुचला / Strychnos nuxvomica 0

कुचला / Strychnos nuxvomica – गुण, उपयोग, लाभ एवं शोधन की विधि

कुचला / Strychnos nuxvomica in Hindi कुचला जिसे अंग्रेजी में Poison Nut भी कहते है | आयुर्वेद में इसके बीजों की गणना फल विषों में की गई है , इसके विष को सुषुम्ना क्षोभक...

भिलावा / markingnut 0

भिलावा / Semecarpus Anacardiumlinn – परिचय, गुण, शोधन और फायदे |

भिलावा (भल्लातक) / Markingnut in Hindi परिचय – भिलावा आयुर्वेद में इसकी गणना क्षोभक विषों में की गई है | यह अति विषैला औषधीय फल है अत: इसका प्रयोग आयुर्वेद में शोधन करने के...

तालीशपत्र , तलिशादी चूर्ण 0

तालीशपत्र – परिचय, गुण एवं श्वास रोगों में तलिशादी चूर्ण के फायदे |

तालीशपत्र / Talishpatra In Hindi (Albies webiana Lindle) Talishpatra in hindi – तालीशपत्र एक आयुर्वेदिक हर्बल प्लांट (पौधा) है | इसके पतों का आयुर्वेद में बहुत सी औषधियां बनाने में प्रयोग किया जाता है...